किसानो के प्रदर्शन के बाद पीएम मोदी ने कृषि क़ानून पर तोड़ी चुप्पी, दिया बड़ा बयान

580

अभी देश की राजधानी नयी दिल्ली और इसके आस पास के इलाको में जो हालात बने हुए है वो बहुत ही अधिक दयनीय हो रहे है क्योंकि किसान प्रदर्शन के चक्कर में लगातार उन लोगो के लिए समस्या पैदा हो रही है जो वहां पर रहते है और किसान यहाँ पर रूकने का नाम ले नही रहे है और पीएम मोदी से मांग कर हरे है कि ये जो भी नये कृषि क़ानून आये है उनको तुरंत प्रभाव से वापिस लिया जाये. इसी बीच खुद मोदी जी का एक बयान आया है जो उनके स्टैंड को काफी हद तक क्लियर कर देता है.

नए क़ानून से किसानो का ही फायदा, अन्नदाता बढेगा तो देश बढेगा
प्रधानमंत्री मोदी अभी हाल ही में एक उद्योग मंडल को संबोधित कर रहे थे और इसी दौरान उन्होंने विवादों में फंस चुके कृषि कानूनों पर अपनी तरफ से काफी बड़ा बयान दिया है. पीएम मोदी ने कहा कि अब कृषि और इससे जुड़े हुए बाकी के सेक्टरो की दीवारों को हटाया जा रहा है. इससे कृषि के क्षेत्र में ज्यादा निवेश होगा और फायदा भी ज्यादा होगा. कृषि को मजबूत करने के लिए बीते वक्त में काफी काम हुए है.

कृषि क़ानून पर बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा कि अब भारत के किसानो के पास में मंडी से बाहर भी कही पर भी अपना समान बेचने की आजादी है. आज मंडियों पर तो आधुनिकरण हो ही रहा है साथ ही साथ में उनको डिजिटल पर बेचने का विकल्प भी दिया जा रहा है. पहले की नीतियां चाहे कुछ भी रही हो लेकिन आज की नीतियां ही आज के समय के लिए और विकास के अनुकूल है.

इन रिफोर्म के बाद में किसानो को नए बाजार मिलेंगे, नयी टेक्नोलॉजी उपलब्ध होगी, देश का कृषि इन्फ्रा मजबूत होगा, इससे सबसे ज्यादा फायदा तो मेरे किसानो को ही होने वाला है. यहाँ  पर प्रधानमंत्री मोदी का बयान ये साफ़ कर देता है कि अब वो अपनी बात पर अड़ गये है और धरने प्रदर्शन से उनका मूड बिलकुल भी नही बदला है.