टेंशन में भाजपा, इस राज्य में सरकार गिरने का खतरा

458

अभी हाल फ़िलहाल में जो कुछ भी देश भर में हो रहा है वो बीजेपी के पक्ष में कही से भी नजर नही आ रहा है. एक तरफ सारी पार्टिया बीजेपी के खिलाफ एक जुट हो रही है, दूसरी तरफ किसान आन्दोलन की परेशानी और तीसरा मोर्चा अब बीजेपी के ही अपने सहयोगी पार्टी के लोगो ने खोल रखा है जो कही न कही चिंता का कारण बन रहे है और इसकी जड भी कही न कही किसान आन्दोलन को ही माना जा रहा है, न ये सब होता और न ही बीजेपी इतना टेंशन में आती.

जेजेपी के दुष्यंत चौटाला का बयान, किसानो को एमएसपी नही दिला सका तो दे दूंगा इस्तीफा
आपको मालूम होगा कि हरियाणा में बीजेपी की सरकार जेजेपी के समर्थन से बनी हुई है और इस पार्टी के प्रमुख दुष्यंत चौटाला है. अब किसान आन्दोलन का मसला चल रहा है और ऐसे समय में अब वो अपनी टाइप की राजनीति कर रहे है. दुष्यंत चौटाला ने एक तरह से ऐलान किया है कि अगर मैं किसानो को एमएसपी नही दिलवा पाता हूँ तो फिर मैं इस्तीफा दे दूंगा और चला जाउंगा.

अब दुष्यंत चौटाला इस्तीफा देते है इसका मलतब है जेजेपी बीजेपी से अलग होगी और बीजेपी की सत्ता हरियाणा में गिरेगी तो एक तरह से वो ये ही कहना चाह रहे है और खट्टर सरकार के लिए ये काफी अधिक चिंता की बात भी है और चुनौती की बात भी है तो ऐसे में जरूरी है कि वो दुष्यंत चौटाला के साथ में बैठकर के बात वगेरह करे और मुद्दे को सुलझा ले क्योंकि दोनों ही पार्टियों के बीच में कम ही समय में दोस्ती अच्छी खासी  पनप चुकी है और इसका टूटना एक बड़ा ड्रा बैक हो सकता है.

कही न कही ये वो स्थिति है जिसमे दुष्यंत चौटाला दोनों ही तरफ में विन विन सिचुएशन में है जबकि बीजेपी के लिए उनको बनाकर के रखना और उनसे मित्रता रखना सरकार बचाए रखने के लिए काफी जरूरी है.