शरद पवार ने साधा अपने ही साथी नेता राहुल गांधी पर निशाना, दिया ऐसा बयान

199

अभी कांग्रेस पार्टी और एनसीपी दोनों ही महाराष्ट्र में गठबंधन करके एक हो रखी है और कही न कही इसके पीछे का मकसद तो हर कोई जानता ही है कि बीजेपी को ये मिलकर के सत्ता से बाहर रखना चाह रहे है और इसमें दोनों ही पार्टियाँ कामयाब होते हुए नजर आती है लेकिन असल में बात करे तो इनके बीच में कोई भी दोस्ती नही हुई है और शरद पवार के हाल ही के जो बयान है उसे देखकर के तो ऐसा ही कुछ लगता है हालांकि वो उतने कडवे नही हुए है जितने हो सकते थे.

शरद पवार राहुल गांधी पर बोले, मुझे उनमे निरंतरता में कमी दिखती है
पवार साहब का इंटरव्यू हाल ही में लोकमत मीडिया की तरफ से किया गया था जिसमे उनसे पूछा गया कि क्या देश राहुल गांधी को नेता मानने के लिए तैयार है? तो इसका जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि इसमें कुछ सवाल है, उनमे निरंतरता की कमी है लगती है. शरद पवार ने यहाँ पर राहुल गांधी के निरंतर काम करने की कमी पर निशाना साधते हुए उनकी कमी को सामने रखा है. राहुल अक्सर ही बस थोडा काम करके छुट्टी पर चले जाते है और ये अक्सर ही देखा गया है.

इसके अलावा जब ओबामा की बात आयी कि उन्होंने जो राहुल गांधी पर ये टिप्पणी की थी कि वो उत्सुक छात्र की तरह है लेकिन उनके अंदर जूनून की काफी है. इस पर उन्होंने जवाब देते हुए कहा कि मैं अपने देश के नेतृत्व के बारे में कुछ भी कह सकता हूँ लेकिन बाहर के देश के नेता के बारे में न कहूँगा. ये सीमा को पार करना होगा और ओबामा ने इस बार सीमा को पार किया है.

अगला सवाल फिर से राहुल पर था कि क्या राहुल गांधी पार्टी के लिए बाधा बन रहे है? इस पर वो कहते है कि किसी भी पार्टी का नेतृत्व इस बात पर निर्भर करता है कि संगठन के भीतर उन्हें किस तरह से स्वीकार किया जाता है. यहाँ पर भी उन्होंने अपने साथी राहुल का पक्ष नही लिया.