आन्दोलन कर रहे किसानो ने रख दी अब ऐसी मांग, जो पूरी करना मोदी सरकार के लिए है मुश्किल

342

एक लम्बे समय से किसान अपने तरीके से डटकर के दिल्ली में खड़े है और अपनी मांग को वो किसी भी तरह से बस पूरा करवा देना चाह रहे है और इसी कड़ी में हाल ही में उन्होंने एक ऐसी मांग सरकार के सामने रखी है जो कही न कही बहुत ही ज्यादा मुश्किल है बल्कि मोदी सरकार इसे पूरा करने से पहले एक नही बल्कि दस बार सोचेगी क्योंकि यहाँ पर बात ये आ चुकी है कि किसान पूरे सदन को एक बार फिर से खुलवाने की बात कर रहे है.

किसान नेताओ की मांग, अभी विशेष सत्र बुलाये मोदी सरकार और क़ानून वापिस ले
अभी हाल ही में एक किसान युनियन ने साफ़ तौर पर कहा है कि अब वो यहाँ से बिलकुल भी पीछे नही हटेंगे और उनकी एक ही मांग है कि मोदी सरकार विशेष सत्र बुलाये और वहाँ पर वो जो ये कृषि के सम्बन्ध में क़ानून लाया गया है उसे वापिस ले. इसे वापिस लेने के बाद में ही वो आगे चलकर के इस आन्दोलन को खतम करेंगे वरना वो इसे इसी तरह से चलने देने वाले है. किसानो का कहना है कि वो चार महीने का राशन लेकर के पहुंचे हुए है.

कही न कही ये मोदी सरकार पर प्रेशर तो बना रहा है लेकिन फिर भी एक पूरा विशेष सत्र बुलाकर के क़ानून वापिस ले लेने की बात करना कही न कही मोदी सरकार को भी ये बात अखरेगी क्योंकि अगर सरकार ऐसा करती है तो देश और दुनिया में यही सन्देश जाएगा कि मोदी सरकार एक आन्दोलन से घबरा चुकी है क्योंकि वो गलत थी और फिर और लोगो को भी लगेगा कि हम भी अपनी मांगे मंगवाने के लिए दिल्ली को जाम कर देंगे और अपना काम निकलवा देंगे.

ऐसे में सरकार को ये भी टेंशन है कि वो एक बुरा उदाहरण सेट कर देंगे अगर ऐसा कुछ होता है तो, ऐसे में इसका हल अंत में क्या निकलता है अभी ये कुछ भी निश्चित नजर नही आ रहा है.