फडनवीस ने कहा डूब मरो ठाकरे सरकार, तो संजय राउत ने दिया ऐसा जवाब

125

जब शिवसेना और बीजेपी शुरू शुरू में अलग हुए थे तब तक तो ये दोनों ही पार्टियाँ एक दुसरे के खिलाफ बहुत ही ज्यादा खुलकर के बोलने से बचती थी क्योंकि उनको लगता था कि शायद आगे चलकर के दोनों को एक दुसरे की जरूरत पड़ भी सकती है लेकिन अगर हम अभी की बात करे तो समीकरण पूरी तरह से बदल चुके है और दोनों ही एक दुसरे के शत्रु नम्बर वन बनकर के खड़ी है और बातो के मामले में तो एक दुसरे के ऊपर ये दोनों ही पार्टियाँ हर समय हावी रहती है.

फडनवीस ने उद्धव ठाकरे को घेरा, जवाब देने सामने आ गये संजय राउत
महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडनवीस ने अभी हाल ही में बयान देते हुए कहा कि इस सरकार का पिछले साल का लेखा जोखा दो अदालत के निर्णयों में नाप सकते है एक तो अर्नब गोस्वामी और दूसरा कंगना रनाउत. इस अपर स्पष्ट रूप से अदालत ने इनकी सरकार को फटकार लगाई है, इन लोगो को इसके बाद में तो डूब मरना चाहिए. क्या अब आप अदालत को भी महाराष्ट्र विरोधी कह देंगे? हम राष्ट्रपति शासन की मांग नही करते लेकिन सत्ता का दुरूपयोग हुआ है.

आगे फडनवीस ने ये भी कहा कि उद्धव ठाकरे लोगो को धमकी देना बंद कर दे. उनको पांच साल सरकार चलानी है तो चलाए लेकिन लोगो को धमकी न दे. इस पर जवाब देते हुए संजय राउत ने कहा कि अब महाराष्ट्र और बंगाल दोनों पर ही दबाव डाला जा रहा है लेकिन हमें तो पता था कि ये होगा और प्रेशर पॉलिटिक्स शिवसेना की आदत है. वो लोग जो भी कर रहे है हमें उसकी पूरी जानकारी है.

केन्द्रीय जांच एजेंसियों का ये लोग पूरा प्रयोग हमारे खिलाफ कर रहे है. फ़िलहाल महाराष्ट्र में जो कुछ भी चल रहा है वो ईस्ट इंडिया कम्पनी की परम्परा है. जो इनको चाहिए उसके लिए ये पूरा जोर लगा रहे है लेकिन विपक्ष को अपनी इस ताकत का इस्तेमाल जनता के हित में लगाना चाहिए.