बंगाल में एंट्री से पहले ही फेल हो गये ओवैसी, ममता ने दिया इतना बड़ा झटका

240

अभी एएमआईएम धीरे धीरे अपना विस्तार हैदराबाद के बाहर भी करने की कोशिश कर रही है और इसके लिए जिस तरह से कोशिशे हो रही है वो सबको नजर आ भी रहा है. ओवैसी ने बाकायदा बिहार में अच्छी खासी सीट जीती भी है जो अपने आप में एक बड़ी बात है क्योंकि ओवैसी की छोटी सी पार्टी से ऐसी उम्मीद कोई भी नही रखता है. खैर जो भी है अभी इन नतीजो से उत्साहित होकर के ओवैसी ने बंगाल में होने वाले चुनावों की तैयारी कर ली थी लेकिन लग रहा है वहाँ पर उनको कुछ भी मिलने वाला नही है.

चुनाव से पहले ओवैसी के बड़े बड़े बंगाल नेता टीएमसी में शामिल, लगाया बीजेपी पर मदद करने का आरोप
ओवैसी के पास में बंगाल में कई बड़े बड़े और मजबूत मुस्लिम नेता थे लेकिन उन सबने अभी कुछ समय पहले ओवैसी की पार्टी से नाता तोड़ दिया है. अनवर पाशा समेत 17 बड़े एएमआईएम नेताओं ने ओवैसी की पार्टी को छोडकर के टीएमसी को ज्वाइन कर लिया है. ये 17 नेता वो लोग है जो एएमआईएम् के लिए बंगाल में भी बिहार की ही तरह अच्छी खासी सीटे निकालकर के लाने वाले थे.

बात सिर्फ यही पर ही नही रूकती है जिन नेताओं ने ओवैसी का साथ छोड़ा है उन्होंने आरोप भी लगाया है कि ओवैसी मुस्लिम वोटो को बांटकर के बीजेपी की मदद करने का काम करते है. क्या वो बीजेपी के एजेंट की तरह काम कर रहे है? सवाल कई सारे उठ रहे है और अभी शायद ओवैसी के खुदके पास में भी इसका कोई सटीक जवाब मौजूद नही है.

अब ये जो ममता बनर्जी ने ओवैसी को झटका दिया है उसके बाद में वो अपने पार्टी को हुए बंगाल में डेमेज को चुनाव से पहले कैसे संभालते है ये तो ओवैसी शायद खुद भी नही जानते है क्योंकि बंगाल में घुसना और ममता बनर्जी के के खिलाफ खड़े होना खुद बीजेपी के लिए भी मुश्किल परिक्षा जैसा तो ओवैसी फिर कहा ही ठहरते है.