कांग्रेस के सीनियर और दिग्गज नेता का निधन, पार्टी मुख्यालय में शोक का माहौल

668

अभी कांग्रेस पार्टी वैसे ही काफी ज्यादा तकलीफों से होकर के गुजर रही है और जो स्थिति उनके साथ में हो रही है वो किसी से भी छुपी हुई नही है. कही न कही जिस तरह से एक के बाद में एक चुनाव पार्टी हारी है उसके बाद में उन्होंने शीला दीक्षित जैसे बड़े और काफी जाने माने अपने पार्टी के सीनियर लोगो को खो दिया है जो अपने आप में पार्टी के लिए बहुत ही बड़ी हानि रही मगर अब भी ये रूकने का नाम नही ले रहा है और एक और को खो दिया है.

नही रहे सीनियर कांग्रेस नेता तरुण गोगोई, तीन बार रहे है मुख्यमंत्री
कांग्रेस के जाने माने और सीनियर नेता तरुण गोगोई का अभी हाल ही में निधन हो गया है और उनके जाने की खबर सुनकर के लोगो में शोक की लहर दौड़ने लगी है. वो 2001 में असम के मुख्यमंत्री बने थे और इसके बाद में वो लगातार तीन बार वहां के मुख्यमंत्री बने और 2016 में उन्होंने अपनी गद्दी छोड़ी थी तब तक वो असम के सबसे लोकप्रिय नेता के तौर पर भी जाने जाते रहे.

पिछले कुछ समय से उनकी तबीयत बहुत ही ज्यादा खराब हो गयी थी. रविवार को अंतिम बार उनका डायलिसिस किया गया था मगर फिर उनके शरीर में हद से ज्यादा विषाक्त पदार्थ भरने लगे और सोमवार को उनकी तबीयत बिलकुल ही नाजुक सी हो गयी जिसके बाद में उनको फिर बचाया न जा सका और इस बात की जानकारी खुद असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनूवाल जी ने दी है कि अब तरुण गोगोई नही रहे है और कांग्रेस पार्टी के मुख्यालय में इसके बाद से शोक का माहौल है.

खुद देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने भी ट्वीट करके उनके लिए अपनी तरफ से श्रद्धांजली अर्पित की है. असम की राजनीति में गोगोई जी का  योगदान कभी भी भुलाया नही जा सकेगा ये तो तय ही है.