मुंबई की कराची स्वीट्स दूकान का नाम बदलवाने पहुंचे शिवसेना नेता, संजय राउत ने दिया हैरान करने वाला बयान

399

एक समय में शिवसेना जब बाल ठाकरे के अंडर में थी तब वो दौर था जब वो पाक या फिर इससे जुडा हुआ कोई नाम कही पर भी देखना तक पसंद नही करती थी और ये बात हर कोई बहुत ही बेहतर तरीके से जानता भी है लेकिन अभी की लीडरशिप इसे बहुत ही अलग तरीके से देखती है और इस मामले में थोड़ी लिबरल भी साफ़ तौर पर नजर आती है और संजय राउत के साथ ने अपने हाल ही के एक बयान में इस बात का बहुत ही अच्छे तरीके से परिचय भी दे दिया है.

शिवसेना नेता नितिन नंदगांवकर कराची स्वीट्स का नाम बदलवाने का नाम बदलने पहुंचे, राउत बोले ये मांग बेमतलब
शिवसेना के नेता नितिन नंदगांवकर मुंबई में मौजूद एक मिठाई की दूकान पहुंचे जिसका नाम कराची स्वीट्स है और उससे बड़े ही अच्छे तरीके से बात करके उससे कहा कि वो अपनी इस दूकान का नाम बदल दे, इसमें मनसे ने भी उनको सपोर्ट किया कि ये दूकान की जगह अपने पूर्वजो के नाम पर कुछ रखो. जब विवाद बढ़ा तो दुकानदार ने अपनी दूकान का नाम सफ़ेद रंग के कपड़े से ढक दिया.

इसके बाद में अब संजय राउत ने इस पूरे मामले से किनारा कर लिया है और कहा है कि कराची बेकरी और स्वीट्स मुंबई शहर में 60 सालो से है और इसका पाकिस्तान से कोई लेना देना नही है. उनको नाम बदलने के लिए कहने का कोई मतलब नही है, दूकान बदलने के ऊपर जो भी हुआ है वो शिवसेना का आधिकारिक रूख नही है. ऐसा पहली बार हुआ है जब शिवसेना किसी मुद्दे जो पाक से जुडा है उस पर इतना खुलकर लिबरल हो रही है और ये कई लोगो को हैरान भी कर रहा है.

हालांकि दुकानदार का भी यही कहना है कि इसका पाक से कोई मतलब नही है उसके पूर्वज कराची से थे इसलिए उसने ये नाम रखा है. ऐसे में एक आम आदमी जो शॉप चलाता है उस पर थोडा प्रेशर तो आ ही जाता है जो व्यापार करता है.