नीतीश कुमार ने किया ऐसा फैसला, जिससे मुस्लिम लोग हो सकते है नाराज

584

बिहार के मुख्यमंत्री और लम्बे समय से काफी बड़े नेता रहे नीतीश कुमार की पहचान एक ऐसे नेता के तौर पर रही है जो हर समाज के अन्दर पहचान और मजबूती रखते है और कही न कही इस वजह से जेडीयू काफी समय से बिहार में टिकी हुई भी रही है लेकिन लग रहा है कि अब इन दिनों में नीतीश अपना ध्यान कही दूसरी तरफ शिफ्ट कर रहे है और ये झलक उनके मंत्रीमंडल में भी नजर आ रही है जिसके कारण अभी फ़िलहाल कांग्रेस ने भी काफी ज्यादा बवाल कर रखा है.

नीतीश ने इस बार एक भी मुस्लिम को नही बनाया अपनी केबिनेट में मंत्री, कांग्रेस बोली अब ये भी बीजेपी की एजेंडे पर
आपको मालूम हो तो नीतीश कुमार हाल ही में दुबारा से सीएम बने है और उनके साथ में कुल 14 लोगो ने मंत्री पद की शपथ ली है जिसमे कई छोटे छोटे समाज से भी लोग आये है लेकिन इस बार नोटिस करने वाली बात ये थी कि एक भी मुस्लिम व्यक्ति को मंत्री पद की शपथ नही दिलवाई गयी है और ऐसा संभवतः पहले कभी नीतीश कुमार के साथ में देखने को नही मिला है.

अब जब ऐसा हुआ है तो फिर कांग्रेस ने जेडीयू को घेरना शुरू कर दिया है और बयान देते हुए कहा है कि नीतीश कुमार ऐसे सरकार के मुखिया बने बैठे है जो आरएसएस और बीजेपी के इशारे पर चलेगी. खुद को अल्प संख्यको का हितैषी बताने वाले नीतीश कुमार इस बार एक भी मुस्लिम को अपने मंत्री मंडल में जगह नही दे पाए या फिर उन्होंने आरएसएस और बीजेपी के एजेंडे को स्वीकार कर लिया है.

माना जा रहा है कि इस बार मुस्लिमो ने जमकर के बिहार में ओवैसी को वोट दिया है और इस कारण से वो अच्छी खासी सीट्स भी जीत गये है. अब ये ऐसी स्थिति है जिसमे पता चलता है कि जब जेडीयू को मुस्लिम वोट नही मिल रहे है तो वो अब अपना फोकस दूसरी तरफ शिफ्ट कर रही है.