अर्नब गोस्वामी की जमानत को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने दे दिया बड़ा फैसला

212

लगभग एक हफ्ता होने आया है और अर्नब गोस्वामी को अभी तक भारत के न्याय प्रणाली से कोई ख़ास राहत देखने को मिली नही है. पहले तो सेशन कोर्ट ने उन्हें न्यायिक हिरात में भेज दिया जिसके बाद में उनकी जमानत को बॉम्बे हाई कोर्ट के द्वारा भी खारिच कर दिया गया और जब ये सब कुछ हुआ तो अंतिम उम्मीद एक ही बचती है जिसे लेकर के हर कोई काफ़ी अधिक उम्मीद लगाकर के बैठा होता है और वो है सुप्रीम कोर्ट, जिसमे सुनवाई के लिए अर्नब गोस्वामी के द्वारा हाई कोर्ट के फैसले के विरुद्ध अपील की गयी.

सुप्रीम कोर्ट ने अर्नब गोस्वामी की जमानत को दी मंजूरी, रिपब्लिक ने बड़ी जीत के तौर पर दिखाया
सुप्रीम कोर्ट ने तय समय के अनुसार सुबह लगभग साढ़े 10 बजे अर्नब गोस्वामी की जमानत पर सुनवाई शुरू की और इसके बाद में दोनों ही पक्षों की तरफ से अपनी अपनी दलीले भी रखी गयी जिसमे से एक ने बताने की कोशिश की कि जमानत देनी क्यों जरुरी है और अर्नब को सिर्फ परेशान किया जा रहा है वही दूसरी तरह से पक्ष ने अर्नब को अभी फ़िलहाल के लिए न्यायिक हिरासत में रखने के ऊपर ही जोर दिया है.

मगर सुप्रीम कोर्ट ने अपनी सूझ बूझ और समझ का इस्तेमाल करते हुए अर्नब गोस्वामी को जमानत दे दी है. अब जल्द ही सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद में अर्नब गोस्वामी बाहर आ जायेंगे और ये अपने आप में रिपब्लिक मीडिया ग्रुप और इसके समर्थको के लिए बहुत ही बड़े पर्व जैसा मौका है क्योंकि उन्होंने एक जीत हासिल कर ली है.

मगर यहाँ पर सुप्रीम कोर्ट ने सख्त टिप्पणियां महराष्ट्र की सरकार और हाई कोर्ट पर भी की है जिसमे वो कहते है कि विचारधारा में मतभेद हो सकते है, अगर आपकी विधारधारा अलग है तो चैनल न देखे. सुप्रीम कोर्ट ने साथ ही साथ में ये सवाल भी पुछा कि किसी को पेमेंट न देना किसी के जान देने की वजह कैसे हो सकता है?  उन्होंने इस पर स्पष्टता मांगी और व्यक्ति के राईट टू लिबर्टी पर भी अपनी तरफ से सख्ती दिखाई है. किसी को निशाना न बनाये जाने पर भी सख्त बाते कही है. अर्नब के पक्ष में ये पूरा जजमेंट जाते हुए दिखा है.