भारत और चीन में हुई लड़ाई तो क्या अमेरिका करेगा मदद, विदेश मंत्री पोम्पियो ने दिया जवाबा

279

इन दिनों अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो भारत में है और यहाँ पर वो चीन एक खिलाफ भारत को अपने पार्टनर के तौर पर देखते है इसलिए कई सारे समझौते करने के लिए आये थे और उन्होंने बाकायदा किये भी, माइक पोम्पियो ने प्रधानमंत्री मोदी से भी कुछ देर के लिए बातचीत की और अधिकतर वक्त उनका भारत के विदेश मंत्री जयशंकर के साथ में बीता. ये सब कुछ होने के बाद में उन्होंने देश के प्रतिष्ठित मीडिया समूह टाइम्स नाउ को इंटरव्यू दिया जहाँ पर उनसे एक बड़ा ही दिलचस्प सवाल किया गया और ये कई भारतीयों के मन की बात भी है.

भारत चीन की लड़ाई में सपोर्ट करेंगे पोम्पियो, सवाल पर बोले भारत के साथ खड़े रहेंगे
टाइम्स नाउ के इंटरव्यू के दौरान पत्रकार ने माइक पोम्पियो से सवाल किया किया कि मान ले अगर भारत और चीन के बीच में पहले की 1962 वाली स्थिति आ जाती है और दोनों ही देश आपस में लड़ते है तो क्या अमेरिका अपनी दोस्ती निभाते हुए भारत का समर्थन करेगा भारत की मदद करेगा? इस पर माइक पोम्पियो का काफी ज्यादा लंबा और दिलचस्प जवाब था.

पोम्पियो का  कहना है कि भारत और अमेरिका मिलकर के ही चीन की हिमाकत को रोक सकते है. चीन की किसी भी हिमाकत को रोकने के लिए अमेरिका भारत को जितना सपोर्ट कर सकता है उतना करेगा. वही लड़ाई वाले सवाल पर उन्होंने कहा कि आप उन चीजो को भी देखो जो हम लोग कर हरे है हमने चीन का अपने देश में निवेश करना मुश्किल कर दिया है क्योंकि हम परस्पर निष्पक्ष व्यापार चाहते है. हमने अपनी सेना ऐसी बनाई है जैसी किसी की नही है और दुनिया भर के आजादी पसंद देशो की मदद के लिए हम लोग तैयार है.

भारत भी अमेरिका की ही तरह लोकतांत्रिक और संप्रभु देश है. अगर चीन की कम्यूनिस्ट पार्टी इसे चुनौती देती है तो आप बेफिक्र रहे हम आपके साथ में खड़े रहेंगे और एक पार्टनर के तौर पर खड़े रहेंगे.