भारत और अमेरिका करेंगे अब BECA समझौता, सारी दुनिया हैरान

147

भारत ने चीन की हरकतों को देखते हुए अब अपनी सामरिक शक्ति में लगातार इजाफा करना शुरू कर दिया है. अभी हाल ही में ऑस्ट्रेलिया से भारत ने अपने नेवल बेस शेयर करने को लेकर के समझौता किया था, फिर क्वाड ग्रुप में भी भारत ने कदम आगे बढाने के संकेत किये और अब हाल ही में जो भारत करने जा रहा है वो संभवतः मोदी सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धियों में शुमार किया जा सकता है जो अमेरिका और भारत को पहले की तुलना में और भी अधिक नजदीक लाने का कार्य करेगा.

भारत और अमेरिका करेंगे BECA समझौता, आपस में सारी ख़ुफ़िया और भूस्थानिक सूचनाएं साझा करेंगे
भारत और अमेरिका दोनों ही देश आपस में BECA समझौता करने जा रहे है और ये अपने आप में काफी खास है. इसे करने के लिए खुद अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो देश की राजधानी नयी दिल्ली में आये हुए है जहाँ पर उनको भारत के विदेश मंत्री जयशंकर होस्ट कर रहे है. दोनों के फॉर्मल बातचीत और सिग्नेचर आदि होने के बाद में ये समझौता एक कानूनी रूप ले लेगा.

अब सवाल ये है कि इससे भारत को फायदा क्या होगा? तो पहला तो ये है कि दोनों ही देश आपस में ख़ुफ़िया जानकारियाँ साझा करेंगे जिससे भारत को पता चलता रहेगा कि उसका अच्छा न चाहने वाले देश जैसे चीन, पाक और तुर्की आदि क्या कर रहे है आखिर अमेरिकी सुरक्षा और ख़ुफ़िया तंत्र दुनिया में सबसे बेस्ट जो माना जाता है और इसके अलावा भारत और अमेरिका आपस में भूस्थानिक सूचनाएं जो उनके सेटेलाइट के द्वारा एकत्रित की जाती है उसे भी आपस में साझा कर सकेंगे इससे भारत की मिसाईल की क्षमता और अधिक बढ़ जायेगी.

भारत की मिसाइल भी अचूक बन जायेगी क्योंकि अमेरिकी भूस्थानिक जानकारियाँ काफी अधिक सटीक मानी जाती है. वही बात करे अमेरिका की तो उसे एशिया के रीजन में पकड़ बनाने के लिए भारत की जरूरत है और भारत की जानकारियां इस लोकल एरिया में काफी अच्छी है इस कारण से उसने ये समझौता किया है.