उद्धव ठाकरे के राज में महाराष्ट्र की बेटियां खतरे में, हुआ बड़ा खुलासा

69

आज देश में सबसे ज्यादा चर्चा में किसी राज्य की सरकार रहती है तो वो जाहिर तौर पर उद्धव ठाकरे की सरकार है जो कही न कही खबरों में कभी अर्नब की वजह से, कभी बीजेपी से तनाव की वजह से तो कभी अस्थिरता के चलते रहती है. ऐसे में जब ठाकरे सरकार बड़े बड़े दावे कर रही है कि वो लोगो के लिए काम कर रहे है ऐसे में एक ऐसी खबर सामने आयी है जो पूरे महाराष्ट्र को परेशान करने वाली है क्योंकि इस राज्य की बेटियाँ कुछ ज्यादा ही रिस्क में जी रही है.

महाराष्ट्र में हर रोज गायब होती है 105 महिलाएं, करवाए जाते है गलत काम
अभी हाल ही में एनसीआरबी ने अपना डाटा रिलीज किया है जिसके अनुसार महाराष्ट्र जो कभी बेटियों के लिए सुरक्षित घर कहा जाता था वहाँ की व्यवस्था बिगड़ते हुए नजर आ रहे है. आंकड़ो के अनुसार महाराष्ट्र में हर रोज 105 महिलाओं या फिर लडकियों के गायब होने की खबर आती है. जब ये गायब हो जाती है तो इनमे से 95.6 प्रतिशत महिलाएं ऐसी होती है जिनके साथ में गंदे काम किये जाते है और ये भीतर से पूरी तरह समाप्त हो जाती है.

अगर हम इसकी तुलना अन्य राज्यों करे तो महाराष्ट्र की रैंकिंग यहाँ पर बहुत ही ज्यादा खराब है जिसके चलते हुए पता चलता है कि उद्धव ठाकरे के राज में महाराष्ट्र की बेटियां सुरक्षित नही है. मुंबई पुणे और नागपुर तीन महाराष्ट्र के सबसे बड़े शहर है जिनके अन्दर गलत कार्यो की प्रवृति बढ़ रही है और यहाँ पर महिलाओं की इच्छा के विरुद्ध ये सब कार्य हो रहे है. अगर आप एक दिन में इतने आंकड़ो की बात कर रहे है तो इसका मतलब ये है कि एक साल में 38 हजार से भी ज्यादा औरतो के साथ गलत काम हो रहा है.

इस पूरी रिपोर्ट पर अभी तक महाराष्ट्र सरकार ने चुप्पी साध रखी है और वो कुछ भी बोलने या फिर कहने से बच रहे है मगर लोगो को उम्मीद है कि आने वाले वक्त में चीजे ठीक होगी क्योंकि उम्मीद भी सरकार से ही की जाती है.