एलजेपी के गठबंधन से अलग होने के बाद बीजेपी ने चिराग पासवान को भेजा मैसेज

767

चिराग पासवान ने अभी हाल ही में एक बहुत बड़ा फैसला लिया है और अब वो बिहार में जो एनडीए गठबंधन था उससे अलग हो गये है. इसके पीछे का कारण उनकी जेडीयू से खटपट थी और कही न कही अभी हाल ही के दिनों में उन्होंने जो कुछ भी किया है उसके कारण एलजेपी की एक अलग किस्म की छवि बनी है. अब वो जेडीयू से तो अलग हो गये है लेकिन पीएम मोदी के साथ में अपनी दोस्ती को बरकरार रखना चाहते है और मोदी के नाम का फायदा भी उठाना चाहते है.

बीजेपी ने दिया साफ़ सन्देश, मोदी या शाह के नाम का न करे इस्तेमाल
भारतीय जनता पार्टी ने एलजेपी के बिहार में गठबंधन से अलग हो जाने के बाद में चिराग पासवान को विशेष तौर पर ये सन्देश भेजा है कि अब वो चुनाव कही पर भी बीजेपी की गुडविल का, मोदी या फिर अमित शाह के फेस का इस्तेमाल नही कर सकेंगे. यानी अब उनके पास में बिहार चुनाव में मोदी या फिर अमित शाह के फेस के इस्तेमाल की किसी भी पोस्टर या फिर बैनर में अनुमति नही रहेगी.

ऐसा बीजेपी को तब करना पड़ा जब अभी हाल ही में गठबंधन से अलग होने के बाद में चिराग पासवान ने अपनी प्रधानमंत्री मोदी के साथ में एक तस्वीर शेयर की और उस तस्वीर में वो पीएम मोदी को अपना नेता बताते हुए नजर आ रहे थे. ऐसे में बीजेपी ने साफ़ कह दिया कि अगर अब अलग हो गये हो तो बिहार में हमारे नाम पर वोट भी नही मांगोगे. ये कही न कही चिराग पासवान के लिए एक तरह से झटके की तरह है जिसकी उम्मीद उन्होंने किसी भी कीमत पर नही की थी.

ऐसे में चिराग पासवान को बड़ा फेस अपने पिता यानी राम विलास पासवान को ही बनाना होगा. हालांकि इन दिनों उनकी पैठ उतनी ज्यादा अच्छी ख़ास है नही लेकिन फिर भी चिराग कोशिश करेंगे कि कम से कम वो एक दर्जन सीट्स हासिल करके अपनी साख बचा ले.