आज बीजेपी ने नीतीश कुमार को उनकी पार्टी की असली जगह बता दी

759

भारतीय जनता पार्टी इन दिनों देश की सबसे बड़ी पार्टी है और कही न कही वो काफी मजबूती के साथ में लगभग देश के हर राज्य में अपनी उपस्थिति बनाये हुए है मगर कुछ राज्य जहाँ पर उनको शक्तिशाली पार्टियां मिलती है उनके साथ में गठबंधन भी कर लेती है. ऐसा ही कुछ अभी बिहार में भी है, अगर आप देखे तो बिहार में जेडीयू और बीजेपी का गठबंधन काफी पुराना है और दोनों साथ में इस बार भी चुनाव लड रहे है, मगर जेडीयू इन दिनों बिहार में खुदको बड़ा भाई बनाने की कोशिश में नजर आ रही थी.

जेडीयू की थी बीजेपी से 15 से 20 ज्यादा सीटो पर चुनाव लड़ने की प्लानिंग, बीजेपी ने कहा जो होगा बराबर ही होगा
अभी जेडीयू बिहार में काफी अच्छी स्थिति में है और नीतीश कुमार का फेस सीएम के लिए दिखाया है तो ऐसे में जेडीयू खुदको बड़े भाई की भूमिका में दिखाने की कोशिश में नजर आ रही थी. यही नही उन्होंने अपनी बात भी रखी कि जेडीयू बीजेपी से 15 से 20 ज्यादा सीट्स पर लड़ेगी. अगर यहाँ पर बीजेपी कम सीट्स को एक्सेप्ट कर लेती तो ये साफ हो जाता कि राज्य के चुनावो में भाजपा छोटे भाई की भूमिका में चली गयी है.

मगर बीजेपी ने इन बातो को बिलकुल ही खारिच कर दिया और साफ़ शब्दों में कहा कि अगर सीट्स का बंटवारा होगा तो बिलकुल बराबरी में होगा और सीएम पद के लिए तो हम जेडीयू को एडवांटेज दे ही रहे है. ऐसे में फिर जब बीजेपी के नेता अड़े रहे तो फिर आखिरकार बराबरी पर ही फाइनल हुआ और अब अंत में निर्णय ये निकला है कि बीजेपी और जेडीयू बिहार में बिलकुल बराबरी की सीटो पर चुनाव लड़ेंगे और वो पांच सीट्स हम के लिए भी छोड़ेंगे जो कि जीतनराम मांझी की पार्टी है.

आज जो मंथन हुआ है उससे बीजेपी ने नीतीश कुमार को ये सन्देश तो दे दिया है कि बीजेपी कभी भी छोटी पार्टी की भूमिका में नही आएगी, सरकार हो या चुनाव वो बराबरी के हिस्से पर ही चलने वाली है और ये बात शायद नीतीश कुमार भी आज बेहतर तरीके से समझ गये है.