बाबरी केस में सुनवाई पूरी, कोर्ट ने सुनाया आडवाणी कल्याण सिंह और उमा भारती पर अंतिम फैसला

162

राम मंदिर निर्माण की तारीख तो मिल गयी और मंदिर के निर्माण का कार्य भी शुरू हो गया है लेकिन इससे जुड़े हुए कुछ एक छोटे मोटे काम आदि अभी भी चल ही रहे थे. जो बाबरी मस्जिद को गिराया गया था उस मामले में कुछ लोगो को आरोपी बनाया गया था इसमें अधिकतर लोग बीजेपी से जुड़े हुए  थे और कोर्ट में इनकी सुनवाई चल रही थी. अगर आपको मालूम हो तो इसमें मुख्य आरोपी कल्याण सिंह, मुरली मनोहर जोशी, लाल कृष्ण आडवाणी और उमा भारती समेत अन्य को बनाया गया था.

कोर्ट ने सुनवाई में नही पाया कोई बड़ा प्रमाण, सभी आरोपियों को किया गया बरी
एक लम्बे समय तक चली सुनवाई के बाद में सीबीआई कोर्ट आखिरकार इस निष्कर्ष पर निकला है कि बाबरी गिराने के मामले में कोई भी प्री प्लान नही किया गया था और न ही ऐसा कोई साक्ष्य मिला है जिससे इन आरोपियों की भूमिका स्पष्ट होती है. ऐसे में कई बड़े नेता जैसे लाल कृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती, कल्याण सिंह और विनय कटियार आदि को पूरी इज्जत के साथ में बरी कर दिया गया है.

इसे एक तरह से उत्साह के रूप में मनाया जा रहा है क्योंकि एक लम्बे वक्त से इन आरोपों के चलते हुए बीजेपी और संघ से जुड़े हुए कई वरिष्ठ लोगो को कोर्ट के चक्कर निकालने पड़ रहे थे, सजा का टेंशन अलग से और ऊपर से कई दिक्कते और खड़ी होती थी. विपक्ष को भी सवाल खड़े करने का अवसर मिल जाता था लेकिन अब ऐसा नही होगा और सभी लोगो को आजादी मिल गयी है जो कि एक अच्छी बात कही जा सकती है.

सोशल मीडिया पर इस फैसले को लेकर के काफी ख़ुशी जतायी गयी है और बीजेपी के कई नेताओं ने ट्वीट करके भी इसे एक ऐतिहासिक फैसला बताया है. इसी के साथ में बीजेपी और संघ के ऊपर जो आरोप लगते थे बाबरी से जुड़े हुए वो भी हमेशा के लिए खत्म हो गये.