बिहार में चुनावों से पहले ही जेडीयू ने कर दिया बहुत बड़ा दावा

134

अब बिहार में चुनावी शंखनाद हो चुका है और कई सारे लोग है जो इन्तजार कर ही रहे है कि अब बस वोट डालने की तारीख आये और देखते ही देखते वोट डालकर के जिसे भी जितवाना है उसे जीत दिलवा दी जाये. कही न कही हर पार्टी के समर्थक को उम्मीद तो है ही कि उसके चहेते लोग सत्ता में आयेंगे और बड़े बहुमत के साथ में आयेंगे. अब वो चाहे बीजेपी हो, जेडीयू और या फिर राजद हो. मगर फ़िलहाल सबसे ज्यादा फायदे में कोई दिखाई दे रहा है तो वो जदयू है और उनके दावे में ये नजर भी आ रहा है.

राजद दहाई के अंक तक भी नही पहुंच पाएगी, हमें ही मिलेगा बहुमत
फ़िलहाल जेडीयू बहुत ही ज्यादा कांफीडेंस में है और इतने ज्यादा में है कि जेडीयू की तरफ से ये तक कह दिया गया है कि विपक्ष यानी राजद जो कि लालू की पार्टी है वो दहाई के अंक को भी नही छू पाएगी. यानी वो नौ से भी कम सीट्स पर सिमट जायेगी और जो हमारा गठबंधन है वो पूरे और बहुत ही भारी अप्रत्याशित बहुमत के साथ में फिर से सत्ता में लौटेगा.

ये अपने आप में बहुत बड़ा दावा है जिसमे वो राजद की कोई महत्त्वपूर्ण भूमिका को ही बिहार की राजनीति से खारिच कर दे रहे है. अगर जैसा दावा किया जा रहा है वैसा ही चुनाव में हो जाता है तो तेजस्वी और तेज प्रताप का चुनावी भविष्य लगभग खत्म हो जाएगा. वैसे भी राजद ने एक के बाद एक बड़ी बगावते देख ली है और अब तो उपेन्द्र कुशवाहा भी यहाँ पर यही कह रहे है कि तेजस्वी और तेज प्रताप के नेतृत्व में बिहार में राजद और उसके सहयोगियों का चुनाव जीतना ही मुश्किल है.

ऐसे में जदयू काफी बेनिफिट प्राप्त करने वाली भूमिका में है जहाँ पर उनके पास में न सिर्फ देश की सबसे बड़ी पार्टी का सपोर्ट है बल्कि मुख्यमंत्री पद का दावेदार भी उनकी ही पार्टी का है तो ऐसे में ऐसे बड़े दावे आने भी स्वाभाविक सी बात है.