नेपाल को भारी पड़ी चीन से दोस्ती, मिला इतना बड़ा धोखा

235

इन बीते दिनों में हम लोगो ने देखा है कि नेपाल की सरकार ने धीरे धीरे भारत से मुंह मोड़कर के चीन की तरफ अपना रूख करने की कोशिश की है और कही न कही इसमे वहाँ के वर्तमान प्रधानमंत्री ओली के अपने इंटरेस्ट हमेशा से ही माने जाते है. उनके मुताबिक़ चीन अब उनका अच्छा दोस्त है लेकिन अगर हम असल मायनों में देखे तो अब चीन नेपाल की ही जमीन को अपना समझ कर के इस्तेमाल करने में लगा हुआ है और ये अभी हाल ही में हुआ है.

चीन ने नेपाल के लेप्चा इलाके में अधिकार कर इमारते बना दी, स्थानीय लोगो को भगाया
अभी कई सारी मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार चीन ने नेपाल के हुमला नाम के जिले के लेप्चा इलाके में काफी अच्छे खासे इलाके पर अपना कब्जा कर लिया है और वहाँ पर अपनी तरफ से इमारते बनानी शुरू कर दी है. जो काम काफी तेजी के साथ में हो रहा है और जो भी स्थानीय लोग नेपाल के वहाँ पर रहते थे उनको जबरदस्ती वहाँ से भगा दिया गया है.

जब स्थानीय जांच टीम और लोग वहां पर देखने के लिए पहुंचे तो उनको भी वहाँ से ऐसे भगा दिया गया जैसे कि वो किसी विदेशी जमीन पर हो. बस यही सब कुछ इन लोगो के साथ में हो रहा है और देखने को लगातार मिल रहा है. हालांकि जिला प्रशासन ऐसी कोई भी घटना न होने की बार बार सफाई दे रहा है मगर इन्टरनेट पर ऐसे कई साक्ष्य निकलकर के सामने आये है जिससे मालूम चलता है कि वाकई में चीन ऐसा ही कुछ कर रहा है और ये अपने आप में काफी अधिक बड़ी और गंभीर बात है इस बात में कोई भी शक नही है.

ऐसे में क्या इसे उस दोस्ती की कीमत कही जाए जो अब नेपाल को चुकानी पड़ रही है? भारत को इस कारण से काफी प्रोब्लम हो सकती है क्योंकि पहले तो चीन तिब्बत के जरिये लद्दाख के बॉर्डर तक पहुंचा है और अब वो धीरे धीरे नेपाल को भी हड़पने की कोशिश कर रहा है.