मोदी ने दी सब पुलिस वालो को ये सलाह, बोले मत करो ये काम

108

प्रधानमंत्री मोदी हमेशा से ही अपनी लोकतांत्रिक, जनता की मदद करने वाली और मॉडर्न सोच के लिए जाने जाते है. उनकी कोशिश तो यही ही रहती है कि सिस्टम को जितना हो सके उतना जनता के लिए फ्रेंडली बनाकर के रखा जाये क्योंकि ऐसा करने पर ही कही न कही फायदा तो जनता को ही होता है. अब हाल ही में पुलिस वालो को भी प्रधानमंत्री मोदी ऐसी ही सलाह देते हुए नजर आये जो कही न कही आज के वक्त में देखे तो काफी हद तक फिट भी बैठ रही है.

पुलिस अफसर सिंघम बनने की कोशिश न करे, खाकी का सम्मान खोने न दे
प्रधानमंत्री मोदी ने अपने हाल ही के संबोधन में कहा कि कुछ लोग होते है जो पुलिस में जब ड्यूटी पर जाते है तो वो सोचते है अपना रौब जमा दूं लोगो को डरा दूं. मैं अपना ऐसा सिक्का जमा दूं कि जो एंटी सोशल एलीमेंट है वो मेरे नाम से कांपने चाहिए. ये जो सिंघम वाली फिल्मे देखकर के बड़े बनते है, उस वजह से उनके दिमाग में ये सब भर जाता है और जो करने वाले काम होते है वो होते ही नही है.

अगर प्रभाव ही पैदा करना है तो प्रेम के सेतु से लोगो को अपने साथ में जोडिये. अगर आप वैसा प्रभाव पैदा करेंगे तो उसकी उम्र कम होती है लेकिन प्रेम से काम करेंगे तो लोग भी याद  करेंगे कि 20 साल पहले हमारे यहाँ पर एक अफसर आया था जो हमारी भाषा तक नही जानता था लेकिन हमारा दिल अपने व्यवहार से जीतकर के चला गया, आपको ऐसा बनना है. अगर आप लोग ऐसे काम करेंगे तो लोगो के दिलो में जो आपके लिए नजरिया है वो बदलने लग जाएगा.

प्रधानमंत्री मोदी के द्वारा कही गयी ये बाते अपने आप में पुलिस  रिफोर्म की तरफ इशारा करती है जो सरकार लम्बे समय से चाह ही रही है कि पुलिस जनता फ्रेंडली बने ताकि लोगो के दिलो में न्याय के प्रति भरोसा बढे.