राज ठाकरे हुए उद्धव ठाकरे से नाराज, आरोप लगाते हुए कहा कहा ये सरकार हिन्दुओ को…

439

वैसे तो राज ठाकरे और उद्धव ठाकरे एक ही जगह से निकले है और इनके बीच में एक वक्त में एक ही राजनीतिक भूमि हुआ करती थी लेकिन बदलते हुए वक्त में दोनों एक दुसरे के धुर विरोधी बने हुए नजर आते है और अब तो वो वक्त है जब राज ठाकरे कभी भी उद्धव ठाकरे को निशाना बनाने का मौक़ा नही छोड़ते है और अब एक बार फिर से उन्होंने मंदिर के मुद्दे पर शिवसेना की सरकार को घेरा है और हिन्दुओ के प्रति संवेदनशील न होने जैसे आरोप भी लगा दिये है.

सरकार हिन्दुओ के प्रति बहरी हो चुकी है, सब खुला है पर मंदिर नही
राज ठाकरे ने अभी हाल ही में एक पत्र लिखा है और उस पत्र में वो लिखते है कि मुझे आश्चर्य हो रहा है कि सरकार सोई हुई है या फिर हिन्दुओ के लिए बहरी हो चुकी है? जब सब कुछ खुल सकता है और खुला हुआ है तो फिर मंदिर क्यों नही? मंदिर भी खुलने चाहिए और अगर मंदिर नही खुलते है तो हम सारे प्रतिबंधो को भूलकर के अपने भगवान् के दर्शन करने के लिए मार्च पर निकल पड़ेंगे.

दरअसल मुंबई में मार्च महीने में जब से लॉक डाउन हुआ है तब से मंदिर बंद पड़े है और अब तक सरकार ने उसे खोलने का आदेश नही दिया है जिसके विरोध में अब राज ठाकरे अपना गुस्सा जाहिर कर रहे है और कह रहे है कि अब मंदिर और बंद नही रखे जाने चाहिए. सरकार हिन्दुओ के प्रति अवहेलना कर रही है जो कि नही की जानी चाहिए. राज ने तो शिवसेना वालो को हिन्दुओ के प्रति बहरा  तक बता दिया है और नियम तोड़ने की चेतावनी दी है.

अब देखना होता है कि राज ठाकरे की चेतावनी से प्रभावित होकर के उद्धव ठाकरे मंदिरों को खोलने की व्यवस्था करते है या फिर अपने फैसले पर अड़े रहते है और भिडंत के लिए भी तैयार होते है. आने वाले वक्त में सब कुछ साफ़ हो जाने वाला है.