प्रणव मुखर्जी के निधन के बाद उनके बेटे ने कहा, पूरी नही हो सकी पिता की ये अंतिम इच्छा

268

भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी अब इस दुनिया में नही रहे. वो एक लम्बे समय से बीमार थे. उन्हें करोना हो गया और फिर ब्रेन की सर्जरी करनी पड़ी थी जिसके बाद से ही वो एक तरह से कोमा वाली हालत में नजर आ रहे थे और हाल कोई ख़ास अच्छे नही थे. अब ऐसे में एक बात तो साफ हो गयी कि चीजे कोई बहुत ही अच्छी नही है और ऐसे में फिर जब उनका निधन हो गया तो हर किसी की तरफ से दुःख जताया जा रहा है और लोग तकलीफ में है. इसी बीच उनके बेटे अभिजीत मुखर्जी की तरफ से बड़ी बात कही गयी है.

अंतिम क्षणों में जाना चाहते थे बंगाल, नही ले जा सके
प्रणव मुखर्जी के बेटे अभिजीत मुखर्जी का दर्द उनके जाने के लगभग दो दिन बाद छलक पड़ा और उन्होंने कहा कि पिता जी को अंतिम क्षणों में बंगाल ले जाना चाहते थे. वो इसलिए क्योंकि बंगाल ही उनकी मातृभूमि है जहाँ पर वो पले और बड़े हुए. उनके मन में और बेटे के मन में भी ये था कि प्रणव दा को बंगाल ले जाया जाए और हो सके तो अंतिम क्रिया भी वही पर हो लेकिन क्योंकि करोना के कारण स्थितियां अब पहले की तरह सामान्य नही है तो उस कारण से नही हो सका.

अब आप समझ सकते है कि जब इस वक्त में खुद देश के पूर्व राष्ट्रपति को लेकर के चीजे पूरी नही हो पा रही है तो फिर स्थितियां काफी ज्यादा गंभीर ही है और इसी गंभीरता को देखते हुए चीजो को टाला जा रहा है. वैसे प्रणव मुखर्जी का जो योगदान देश की राजनीति और अर्थव्यवस्था में रहा है उसे कभी भी भुलाया नही जा सकता है.

वो बतौर वित्त मंत्री भी काफी अच्छा काम करते रहे और जब वो राष्ट्रपति बने तो भी वो पूर्ण गरिमा के साथ में मौजूद रहे. उनके कार्य करने की क्षमता और सब कुछ अपने आप में बेमिसाल माना जाता रहा है.