गांधी परिवार से बगावत करने वाले दिग्गज कांग्रेसी नेताओं के कतरे पंख, मिलने लगी सजा

955

अगर आपने देखा हो तो बीते दिनों में गांधी परिवार की पकड़ पॉवर पर बहुत ही ज्यादा कमजोर हुई है और कही न कही बहुत सारे नेता अदि है जो उनके पकड़ से बहार निकलते ही चले जा रहे है जो कि आप भी अच्छे तरीके से देख रहे होंगे. अभी हाल ही में कपिल सिब्बल और गुलाम नबी आजाद समेत कई बड़े कांग्रेस नेताओं ने गांधी परिवार के खिलाफ बगावत की है और इसमें उन्होंने कई सारे लैटर आदि भी लिखे है जिसमे अध्यक्ष पद को लेकर के सवाल उठाये मगर अब इनको फल तो मिलना ही  था जो मिलने लग रहा है.

पार्टी की समितियों को में किया गया पत्र लिखने वाले नेताओं को नजरअंदाज, आ सकती है और भी मुश्किले
जिन भी नेताओं ने अध्यक्ष पद को लेकर के बखेड़ा खड़ा किया था और गांधी परिवार के खिलाफ एक तरह से बगावत ही कर दी थी कि वो चीजो को सही तरीके से हेंडल नही कर रहे है. अब बात यही पर नही रूकती है बल्कि और भी आगे भी बढ़ रही है क्योंकि ऐसा करने वालो को अब कांग्रेस की कई कमिटियो से बाहर किया जा रहा है.

लोकसभा डिप्टी स्पीकर के पद की नियुक्ति कांग्रेस द्वारा होनी थी जिसमे शशि थरूर और मनीष तिवारी दोनों दावेदार पर इन दोनों को ही साइडलाइन करते हुए गौरव गोगोई को मौक़ा दे दिया गया. इसके अलावा रवनीत सिंह को व्हिप चीफ बनायागया है. यही नही कांग्रेस ने एक दस लोगो का समूह भी बनाया है जो संसद में अपना पक्ष पार्टी की तरफ से रखेंगे उनमे भी इन चिट्ठी लिखने वालो को बहुत ही रेयर केस में लिया गया है.

कुल मिलाकर के देखे तो जो लोग राहुल के खिलाफ बोल रहे थे या फिर कोशिश कर रहे थे, जिन्होंने चिट्ठी निकाली थे उन सबके पंख कतरे जा रहे है और संभव है कि आने वाले वक्त में उनकी कोई हैसियत ख़ास तौर पर रह न जाए.