जिससे यूपी में सब थर थर कांपते थे, उसे योगी आदित्यनाथ ने एक झटके में बर्बाद कर दिया

339

योगी आदित्यनाथ हमेशा से ही अपने बेबाक अंदाज के लिए जाने जाते रहे है जिनको अगर कुछ करना होता है तो फिर वो बस कर ही लेते है. उनके बयानों से आप अंदाजा लगा सकते है कि यूपी के मुख्यमंत्री का अंदाज कितने अलग किस्म का होता है और ये अपने आप में काफी ज्यादा बेहतरीन चीज है. अगर विकास दुबे केस देख ले तो वो झलक नजर आ ही जाती है और इन दिनों योगी सरकार के निशाने पर साफ़ तौर पर एक ही व्यक्ति नजर आ रहा है और वो है मुख्तार अंसारी.

पहले मुख्तार अंसारी और अतीक अहमद की सम्पतियो पर कार्यवाही, पुलिस ने कसा शिकंजा
अभी योगी आदित्यनाथ की सरकार और प्रशासन मुख्तार अंसारी के पीछे हाथ धोकर के पड़ गयी है ऐसा नजर आ रहा है. मुख्तार अंसारी गैंग की अब तक सौ करोड़ से अधिक की सम्पति पुलिस कार्यवाही में जब्त की जा चुकी है. कई संपतियां कुर्क हो रही है या फिर की भी जा सकती है. मुख्तार संसारी से जुड़े हुए लगभग 72 शास्त्र लाइसेंस भी निलंबित किये जा चुके है जिससे उसका साम्राज्य रातो रात चरमरा गया है.

इसके बाद में अगले नम्बर पर अतीक अहमद है जो कि पूर्व सांसद भी है. रिपोर्ट्स के अनुसार पुलिस ने अतीक अहमद की लगभग 30 करोड़ की प्रॉपर्टी को सीज कर दिया है और अभी 13 और प्रॉपर्टीज की पहचान की गयी है जिनको भी धरा जा रहा है. ये अपने आप में काफी ज्यादा बड़ी बात कही जा सकती है क्योंकि ऐसा पहले कभी भी नही हुआ है कि अतीक अहमद या मुख्तार अंसारी जैसे बड़े व्यक्ति के साम्राज्य को यूपी में इस तरह से ध्वस्त कर दिया गया हो.

योगी आदित्यनाथ ने कही न कही इसके जरिये एक सन्देश देने की कोशिश भी की है कि कोई भी क़ानून की गिरफ्त से बहार निकलकर के न तो जा सकता है और न ही उसकी संपतियां बच सकती है चाहे वो कितना ही बड़ा व्यक्ति क्यों न हो? इसलिए बेहतर है कि क़ानून के दायरे में रहकर के ही सारे काम हो.