शिवसेना और एनसीपी में भारी फूट पड़ी, दिग्गज नेता का इस्तीफा

692

महाराष्ट्र में जिस तरह से तिकड़ी सरकार चल रही है वो कितनी मुश्किलों में रह रही है वो तो हर किसी को काफी अच्छे तरीके से नजर आ रही है और ऐसे में आगे चलकर के क्या कुछ होने की संभावना है इससे भी कोई इनकार नही कर सकता है क्योंकि कभी कांग्रेस और शिवसेना के बीच में झगडे होते है तो कभी एनसीपी की शिवसेना से कलह हो जाती है और इस बार तो ये इस हद तक चली गयी कि शिवसेना के एक दिग्गज नेता और सांसद को ही इस्तीफा देना पड़ गया जो अपने आप में हैरान कर रहा है.

शिवसेना के लोकसभा सांसद संजय जाधव का इस्तीफा, एनसीपी को बताया वजह
संजय जाधव शिवसेना का काफी पुराना और बड़ा फेस है जो कि इन दिनों परभनी से लोकसभा सांसद थे. सांसद रहने के दौरान उनके एनसीपी नेताओं से कई सारे मनमुटाव हुए है क्योंकि पार्टी को उनके साथ में मिलकर के काम करना पड़ रहा था आखिर उपरी नेताओ ने गठबंधन जो कर लिया है. जिन्तुर नगरपालिका में एक एनसीपी समर्थक को पद देने को लेकर के ये कलह इतनी बढ़ गयी कि शिवसेना ने अपना एक लोकसभा एमपी ही खो दिया.

संजय जाधव ने अपनी लोकसभा सदस्यता से इस्तीफ़ा देने के बाद में लिखा है कि पार्टी कार्यकर्ताओ के साथ में न्याय न करवा पाने के कारण मुझे अब सांसद होने का कोई भी अधिकार नही है. मैं पिछले आठ दस महीने से जिन्तुर नगरपालिका के प्रशासक की नियुक्ति के मामले में देख रहा हूँ. यहाँ पर एनसीपी के एक गैर सरकारी प्रशासक को नियुक्त किया गया है और वो इसे शिवसेना का अपमान बता रहे है और ऐसी स्थिति में काम करने से हाथ जोड़ते हुए संजय जाधव ने अपनी कुर्सी ही छोड़ दी है.

इससे पहले भी कई बड़े शिवसेना नेता है जिन्होंने इसी तरह से पार्टी को छोड़ा है और उद्धव ठाकरे को संगठन स्तर पर काफी भारी नुकसान झेलने पड़े है लेकिन इसके बावजूद वो एनसीपी के साथ में गठबंधन बरकरार रखे हुए है और इसके पीछे का कारण जाहिर तौर पर मुख्यमंत्री की कुर्सी ही है.