बीजेपी अब राजस्थान में चलेगी नया दांव, गहलोत और पायलट को एक साथ खदेड़ने की तैयारी

469

भारतीय जनता पार्टी फ़िलहाल राजस्थान पर काफी अधिक फोकस किये हुए है क्योंकि अगर उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र के बाद देखे तो राजस्थान देश की काफी अधिक राजनीति को तय करने में प्रमुख भूमिका निभाता है और ऐसे में अगर बीजेपी को लम्बे समय तक सत्ता में बने रहना है तो राजस्थान में विधानसभा हासिल करना भी काफी अहम है और इसी की कोशिश में लगातार भाजपा लगी हुई है जो कि साफ़ तौर पर नजर भी आ ही रहा है, मगर अब इस दिशा में एक बड़ा कदम उठाया जा सक्ता है.

मानवेन्द्र सिंह और घनश्याम तिवारी की हो सकती है बीजेपी में वापसी, मनाने की कोशिश में लगी
पार्टी बीते वक्त में भारतीय जनता पार्टी से कुल दो बहुत ही बड़े राजस्थान के दिग्गज नेता घनश्याम तिवारी और मानवेन्द्र सिंह पार्टी से अलग हो गये थे. दोनों का ही कहना है कि उनके स्वाभिमान को ठेस पहुंचाई गयी, उनकी सुनी नही गयी और उनके साथ में ज्यादती हुई जिसके चलते हुए वो अलग हुए है. ये दोनों ही कांग्रेस पार्टी में जा चुके है लेकिन इनकी वहाँ पर कुछ ख़ास इज्जत हुई नही है.

ऐसे में बीजेपी चाह रही है कि अपने दोनों खिलाडियों को वापिस बुला लिया जाए और कई बड़े बड़े पदाधिकारी यही ही चाह रहे है. सूत्र बताते है कि इनको मनाने के लिए और वापिस कांग्रेस से बीजेपी में लाने के लिए कोशिशे चल रही है. माना जाता है कि घनश्याम तिवारी और मानवेन्द्र सिंह के बीजेपी से अलग होने के कारण पिछले चुनावों में बीजेपी को राजपूत, ब्राह्मण, राजपुरोहित और चारण वोटो का काफी ज्यादा नुकसान हुआ था जो कि राजस्थान की आबादी का लगभग एक चौथाई बनाते है.

ऐसे में अगर ये लोग वापिस आ जाते है तो बीजेपी के लिए गहलोत और पायलट के साथ होने के बावजूद उनको खदेड़ना काफी आसान हो सकता है लेकिन जब अपने ही घोड़े किसी और के तांगे को खींच रहे हो तो फिर रेस में दिक्कत जाहिर तौर पर आती ही आती है.