राहुल गांधी ने लगाये संगीन आरोप, कपिल सिब्बल और गुलाम नबी आजाद का पलटवार

893

dइन दिनों कांग्रेस पार्टी के उच्च स्तरीय नेताओं के बीच में बहुत ही बड़े स्तर पर अस्थिरता पर चल रही है और इस लेवल पर चल रही है कि हाल बहुत ही ज्यादा खराब हो चले है. ये बात तो आप भी बड़ी ही बखूबी समझ रहे होंगे जब से आपस में बयानबाजियां चल रही थी लेकिन अभी बात हाथ से निकल गयी है क्योंकि हाल ही में एक चिट्ठी के कारण इतना बड़ा हंगामा कांग्रेस की कोर कमिटी की बैठक में हुआ है जिसकी उम्मीद आज से पहले तक किसी ने नही की थी.

राहुल ने चिट्ठी लिखने वालो को बताया बीजेपी से मिला हुआ, सिब्बल और आजाद का पलटवार
जब कांग्रेस की बैठक शुरू हुई तो राहुल गांधी ने बैठक में कहा कि जिन लोगो ने ये चिट्ठी लिखी थी जिसमे एक अच्छे अध्यक्ष की मांग की गयी थी उनकी बीजेपी से मिलीभगत नजर आ रही है. वो बीजेपी से मिले हुए नजर आ रहे है. बस यही बात कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेताओं को बुरी लग गयी है और अब वो राहुल को सीधे तौर पर ही टार्गेट करते हुए नजर आ रहे है और ये साफ़ तौर पर दिख भी रहा है. कपिल सिब्बल ने इस पर ट्वीट भी किया है.

सिब्बल ने कहा ‘हाँ राहुल गांधी सही कह रहे है हम बीजेपी से मिले हुए है तभी मेने राजस्थान हाईकोर्ट में पार्टी का सही पक्ष रखा, मणिपुर में पार्टी को बचाया. पिछले 30 साल में ऐसा कोई बयान तक नही दिया जिससे बीजेपी को फायदा हो. फिर भी ये कहा जा रहा है कि हम बीजेपी से मिले हुए है.’ वही एक और बयान जारी कांग्रेस के ही सीनियर नेता गुलाम नबी आजाद की तरफ से किया गया है.

गुलाम ने कहा कि अगर वो किसी भी तरह से बीजेपी से मिले हुए है तो वो अपना इस्तीफा दे देंगे. चिट्ठी लिखने की वजह सिर्फ और सिर्फ कांग्रेस की कार्यसमिति थी. अब जिस तरह से कांग्रेस के सब वरिष्ठ नेता हावी हो गये है उसके बाद में राहुल एकदम से अकेले पड़ चुके है.