मोदी सरकार ने बिछायी समंदर में ये हजार करोडो कीमत की केबल, निभाएगी अहम भूमिका

195

आज की डेट में देश भर में कही न कही लगातार इन्फ्रा का विस्तार हो रहा है. कही हाईवे  बन रहे है, कई पोर्ट बन रहे है तो कही एयरपोर्ट बन रहे है. मगर इन सबसे भी महत्त्वपूर्ण चीज जो आज हर जगह पहुँच रहे है वो है केबल. केबल आज वो चीज हो चुकी है जो देश के कोने कोने तक जा चुकी है और डाटा के आवागमन में अहम भूमिका निभा रही है. इसी बीच पीएम मोदी ने एक बड़ी और मोटी केबल का अनावरण किया है जो भारत के चेन्नई से अंडमान निकोबार द्वीप तक जाती है.

चेन्नई से अंडमान तक बिछी फाइबर ऑप्टिकल केबल, द्वीप होगा वेल कनेक्टेड
अब तक अंडमान और निकोबार द्वीप समूह भारत का हिस्सा तो थे लेकिन वो डाटा के जरिये भारत से ठीक से जुड़े हुए नही थे यानी कि वहां पर क्या हो रहा है क्या कुछ है ये सब हम रियल टाइम में पता लगा सके ये मुश्किल होता था. इन्टरनेट भी ठीक से नही पहुँच पाया था लेकिन अब क्योंकि केबल पहुँच गयी है तो सबसे बढ़िया काम हो गया है.

अब अंडमान में डाटा कनेक्टीविटी ठीक वैसी ही दी जा सकती है जैसी की देश के दुसरे हिस्सों में है और इस केबल को बिछाने में 1100 करोड़ रूपये से भी अधिक का खर्च आया है. इसका फायदा वहां के न सिर्फ आम लोगो को होगा बल्कि अंडमान को मालद्वीप की तरह एक टूरिस्ट स्पॉट में विकसित करने में भी किया जा सकेगा जो कि एक अच्छी चीज कही जा सकती है. इसके अलावा भारतीय नेवी के लिए भी ये द्वीप काफी की प्लेसेज है और उनको भी ये काफी मददगार होंगे.

इससे भारत की सामरिक स्थिति भी अच्छी खासी मजबूत होगी और कही न कही ये एक अच्छी चीज कही जा सकती है. खैर जो भी है अभी तो ये सिर्फ शुरुआत भर है और इससे कही न कही द्वीप पर रहने वाले लोग भी प्रसन्न है कि भारत के लोग उनके लिए काम कर रहे है.