राम मंदिर भूमि पूजन की वजह से ओवैसी और प्रियंका गांधी में हो गया झगड़ा

921

अयोध्या में राम जन्म भूमि का पूजन होने जा रहा है और ये खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथो से होगा जो कि अपने आप में काफी बड़ी बात ही कही जायेगी क्योंकि इससे ये राष्ट्र स्तर का कार्यक्रम बन जाता है और अब जो कुछ भी हुआ है उन सबके बीच में कांग्रेस और ओवैसी ऐसे ही भिड पड़े है और इसके पीछे का कारण है प्रियंका गांधी द्वारा हिन्दू वोट्स के लिए अपनी तरफ से अच्छे खासे बयान जारी करना जो कि राम मंदिर के पक्ष में थे.

प्रियंका ने भूमि पूजन को बताया सांस्कृतिक समागम का समारोह, चिढ गया ओवैसी
प्रियंका गांधी वाड्रा ने अपना एक लिखित आधिकारिक बयान जारी किया जिसमे वो कहते हुए नजर आयी कि सब लोगो के दिलो में राम की अमिट छाप है. वो सबके है और तमाम बाते करते हुए उन्होने भूमि पूजन का भी जिक्र किया और कहा कि भगवान् की कृपा से ये संस्कृति समागम और राष्ट्रीय एकता वाला कार्यक्रम बने. कांग्रेस द्वारा राम मंदिर के पक्ष में इस तरह का बयान बड़े स्तर पर पहली बार दिया गया है.

बस इसी बात पर ओवैसी नाराज हो गये है और उन्होंने कहा कि कांग्रेस तो हमेशा से ही खामोशी के साथ हिंदुत्व की राजनीति करते हुए आयी है. अब कांग्रेस को खुलकर के कह देना चाहिए कि वो इस विचारधारा को मानती है. अब कांग्रेस को साफ़ करना है कि वो टीम हिंदुत्व में विश्वास रखती है या फिर टीम इंडिया जो धर्मनिरपेक्षता में भरोसा रखती है उसका साथ देगी. छुप छुपकर की जा रही इस राजनीति को बंद किया जाना चाहिए.

ओवैसी यही पर ही नही रुके. उन्होंने कहा कि राम चबूतरा बाबरी मस्जिद के बाहर था लेकिन चोरो की तरह मूर्तियाँ अन्दर रखी गयी. उस वक्त पंडित नेहरु चाहते तो सीएम को कहकर कुछ कर सकते थे लेकिन वो सिर्फ एक खत लिखकर के खामोश हो गये. कुल मिलाकर के देखे तो ओवैसी कुछ ज्यादा ही नाराज हुए नजर आ रहे है.