दिग्विजय सिंह ने राम मंदिर के मुहूर्त पर उठाये सवाल, योगी आदित्यनाथ ने दिया करारा जवाब

644

राम मंदिर के निर्माण का कार्य इस पांच अगस्त से शुरू होने जा रहा है और इसे लेकर के कई लोगो के अन्दर एक तरह से प्रेम भाव जगा हुआ है और इसका हर कोई बड़ी ही बेसब्री के साथ में इन्तजार भी कर रहा है क्योंकि किसी ने ये कल्पना न की थी कि इतने भव्य तरीके से भविष्य में राम मंदिर का भूमि पूजन का कार्य होगा. खैर अब हो रहा है तो विपक्ष के लोग इस पर राजनीति भी करेंगे और इसमें सरकार की तरफ  से भी अपना पक्ष रखा जाएगा और अब इस पर मुंह से कुछ भी बोला जा रहा है.

चातुर्मास में नही होता कोई मुहूर्त पीएम की सुविधानुसार रहा गया, योगी का भी पलटवार
दिग्विजय सिंह ने राम मंदिर के भूमिपूजन के लिए जो मुहूर्त पांच अगस्त का तय किया गया है उस पर सवाल खड़े करते हुए खा कि चातुर्मास के महीने में कोई भी शुभ काम किया ही नही जा सकता है कोई मुहूर्त नही होता है, मंदिर का मुहूर्त कैसे हो सकता है? इसे सिर्फ पीएम की सुविधा के लिए ये मुहूर्त रखा गया है.

कांग्रेस पार्टी पर पलटवार करते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कांग्रेस को पहले अपना इतिहास देखना चाहिए. वो तो उस जगह पर राम मंदिर बनते हुए ही नही देखना चाहते थे जहाँ पर आधारशिला रखी गयी थी. वो लोग इस मुद्दे का  हल ही नही करना चाह रहे थे. किसी को कुछ भी कहने की जरूरत तक नही है, लोग इनके कृत्यों को काफी अच्छे तरीके से जानते है. 500 साल के बाद में ये शुभ मुहूर्त हम लोगो के बीच में आया है, इस पर ऐसी नकारात्मक टिप्पणियां नही की जानी चाहिए.

इसके अलावा मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी कहा कि जो लोग राम के अस्तित्व पर सवाल खड़े करते थे वो आज मुहूर्त के शुभ अशुभ होने की बाते कर रहे है. कुल मिलाकर के कांग्रेस के किसी भी बयान पर बीजेपी साफ़ तौर पर भारी पड़ रही है और कांग्रेस को कुछ कर पाने का मौक़ा तक नही मिल पा रहा है.