राफेल के भारत पहुँचने के बाद प्रधानमंत्री मोदी का बड़ा बयान

450

भारत एक लम्बे समय से जिस फाइटर एयरक्राफ्ट का इन्तजार कर रहा था वो राफेल आखिरकार भारत पहुँच ही गया. काफी भारी कीमतों में उतार चढ़ाव, पॉलिटिक्स, सुप्रीम कोर्ट में याचिकाओं और लेट लतीफी के बाद में आखिरकार राफेल विमानों की पहली खेप भारत पहुँच ही गयी. ये समय काफी दिलचस्प रहा और भारत की ताकत में वृद्धि वाला भी रहा है इस बात में कोई दो राय नही है. अब इतने बड़े इवेंट पर प्रधानमंत्री मोदी कुछ न बोले ऐसा तो हो नही सकता है. उन्होंने भी बाकायदा ट्वीट करके अपनी बात संस्कृत भाषा में रखी है जो काफी यूनिक है.

राफेल के स्वागत में पीएम ने संस्कृत में लिखा श्लोक, प्रदर्शित की भारतीय परम्परा
इधर भारत में राफेल की पहली खेप ने लैंडिंग की और उधर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ट्विटर अकाउंट से एक बहुत ही शानदार विडियो के साथ में संस्कृत का श्लोक पोस्ट किया गया जिसका हिंदी में अर्थ है ‘राष्ट्र की रक्षा से बढकर के न तो कोई पुण्य है, न तो कोई व्रत है और न ही कोई यज्ञ है. हे आकाश के दीप्तिमान, तुम्हारा स्वागत है.’

जिस अंदाज में प्रधानमंत्री मोदी ने राफेल को लेकर के ट्वीट किया है और उसका स्वागत किया है वो अपने आप में ख़ास है क्योंकि ऐसा शायद पहली बार हो रहा है और दुनिया इसे देख रही है. खैर जो भी है अभी तो ये महज शुरूआती दौर माना जा रहा है और इसके बाद में भी काफी कुछ है जो होने जा  रहा है ऐसा कहा जा सकता है क्योंकि ये तो सिर्फ पहली खेप है. अभी और भी प्लेन भारत की जमीन पर उतरेंगे और जब उतरेंगे तब काफी सक्षमता के साथ में भारत को सुरक्षा देने का कार्य करेंगे.

हालांकि विपक्ष इसे लेकर के खुश नजर नही आता है और अभी भी वो कभी इसकी कीमत पर तो कभी गुणवत्ता तो कभी कॉर्पोरेट फायदे जैसी बातो पर सवाल उठा रहा है और पीएम मोदी इन सब चीजो से बेखबर बस अपने मे व्यस्त नजर आ रहे है.