अब सचिन पायलट की जगह इस नेता को दिलवाना चाह रहे है अशोक गहलोत

111

राजस्थान कांग्रेस में बीते दिनों में किस हद तक उठापटक चली है वो किसी से भी छुपा हुआ नही है और कही न कही अब राज्य की राजनीति पर भी अगर आप झलक डाले तो आपको बस एक ही चीज नजर आएगी कि सब कुछ अशोक गहलोत के कण्ट्रोल में नजर आ रहा है और अब वो राजस्थान के एक तरह से कर्ता धर्ता हो चुके है जिनको चुनौती देने वाला अब कोई बचता नही है. जो पायलट कभी दे सकते थे वो अब हाशिये पर धकेले जा चुके है और ऐसे वक्त में एंट्री होती है वैभव गहलोत की.

मुख्य राजनीति में चेहरा बनकर उभर रहे वैभव गहलोत, हो सकते है पायलट का विकल्प
अशोक गहलोत ने अपनी राजनीति करते करते पूरी उम्र गुजार दी है और अब वो अपने बेटे को उसी में सेट करने की कोशिश में नजर आते है. बाकायदा उन्होंने गजेन्द्र सिंह शेखावत के खिलाफ वैभव को चुनाव लडवाया भी था जोधपुर से लेकिन हार गये थे. अब जब पायलट एक तरह से आउट हुए नजर आ रहे है तो एक नए युवा फेस के तौर पर अशोक गहलोत के बेटे वैभव अपना फेस मजबूत करते हुए नजर आ रहे है.

हाल ही में कांग्रेस के विधायको ने जब धरना दिया और राज्यपाल के खिलाफ प्रदर्शन किया तो उनके बीच में काफी ज्यादा आक्रामकता के साथ में वैभव नजर आये. वो पहले से ही राजस्थान क्रिकेट असोशियेसन के अध्यक्ष है और अब मुख्य कांग्रेस पार्टी में बड़ा फेस बनने का प्रयास कर रहे है और इसमें उनके पिता यानी अशोक गहलोत उनका भरपूर साथ दे ही रहे है लेकिन अब ये तो जनता पर ही है कि क्या वो उनको वाकई में सर पर बिठाती है या फिर घर भेज देती है?

वही बात करे पायलट की तो वो अब भी अपनी जिद पर अड़े हुए है और अपने तरीके से काम करना चाह रहे है जो होने दिया नही जा रहा है तो ऐसे में सचिन पायलट आगे चलकर के क्या करते है ये तो आने वाले वक्त में ही मालूम चल सकेगा.