लद्दाख को जम्मू कश्मीर से अलग करने के बाद दिया पीएम मोदी ने उनको बड़ा तोहफा

220

आपको मालूम तो होगा कि लद्दाख भारत का एक अभिन्न हिस्सा होने के बावजूद भी लम्बे वक्त से कभी भी बहुत ही बड़े स्तर पर विकसित नही हो पाया और न ही उसके संसाधनों को सही तरीके से इस्तेमाल किया जा सका, न ही वहाँ के नागरिको को भारतीय होने के बावजूद कई फायदे मिल सके. इसके पीछे का कारण ये था कि वो एरिया जम्मू कश्मीर राज्य में डाल दिया गया था और वहाँ की सरकारे किस  तरह की राजनीति करती थी ये तो सब जानते है लेकिन अब ये एक केंद्र शासित प्रदेश हो चुका है तो जाहिर तौर पर इसे भी फायदे मिलने शुरू हो ही जायेंगे.

लद्दाख को मिलेगा पहला केन्द्रीय विश्वविद्यालय, बच्चो को वही पर मिल जायेगी नेशनल लेवल की पढ़ाई
अब तक लद्दाख के बच्चो को जम्मू कश्मीर से दिल्ली तक जाना पड़ता था अगर उनको उच्च स्तर की पढ़ाई हासिल करनी होती थी. वहाँ के बच्चो के लिए यूनिवर्सिटी नही थी लेकिन इस बात को इस बार की सरकार ने नजरअंदाज नही किया गया है और यहाँ पर यानि लद्दाख में ही के बड़ी केन्द्रीय यूनिवर्सिटी खोलने का फैसला मोदी सरकार के द्वारा लिया गया है.

इससे लगभग 10 हजार बच्चे तुरंत प्रभाव से प्रभावित होंगे जिनको पढने के लिए बाहर नही जाना पड़ेगा और वो यही पर हाई क्वालिटी के ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स कर सकेंगे. अब इससे बेहतर तो और कुछ हो नही सकता है क्योंकि उन्हें अपने घर के आस पास में ही अच्छी शिक्षा मिल सकेगी और लद्दाख के लोगो की लम्बे वक्त से ये मांग भी थी जिसे समय रहते पूरा करके मोदी सरकार ने बता दिया है कि वो वाकई में उन लोगो की फ़िक्र करते है.

और कही न कही जब से चीन का हस्तक्षेप इन इलाको में हुआ है उसके बाद में लद्दाख की जनता को भरोसे में लेकर के रखना बड़ा ही जरूरी है इस बात में कोई भी संशय नही है. इसके अलावा भी सरकार लद्दाख में कई प्रोजेक्ट आदि चलाने पर विचार कर रही है.