मोदी सरकार ने लिया एक और बड़ा फैसला, चीन में फिर से हडकंप

412

आज चीन पर से भारत की निर्भरता को कम करने के लिए हर संभव प्रयास किया जा रहा है ताकि चीजो को जितना जल्दी हो सके उतना बेहतर किया जा सके और इसमें कई सारे बेहतर कदम भी उठाये गये है. चाहे वो कई सारे कॉन्ट्रैक्ट कैंसिल करना हो या आत्मनिर्भर भारत मिशन की शुरुआत करना हो. कई चीजो में मोदी सरकार आगे बढ़ी है और हाल ही में एक और फैसला किया है जिससे चीन काफी ज्यादा खफा हो सकता है, मगर शायद अब हम उस दौर में है जहाँ पर हमें इस बात से कोई फर्क ही नही पड़ता है.

अब विक्रेताओं को देनी पड़ेगी जानकारी, प्रोडक्ट किस देश में बना है
अक्सर भारत में लोग चाहते है कि वो स्वदेशी चीज खरीदे लेकिन दिक्कत ये हो जाती है कि कोई भी जानकारी उपलब्ध नही है और इस कारण से चीन अपने प्रोडक्ट को चुपके से बाजार में घुसाकर के बेच देता है और किसी को पता भी नही चलेगा. अब इस मामले में इलेक्ट्रॉनिक्स उपकरणों जैसे मोबाइल टीवी आदि पर सरकार नियम लेकर के आयी है कि ये प्रोडक्ट किस देश में बना है इस बात की जानकारी कस्टमर को देनी होगी.

सब कुछ डिटेल में मौजूद होना चाहिए कि ये प्रोडक्ट किस जगह से बनकर के आ रहा है और किस कम्पनी के द्वारा बनाया गया है? ऐसा करने से भारतीय ग्राहकों को पता लगता रहेगा कि वो जो प्रोडक्ट खरीद रहे है तो उनके पास में एक निर्णय लेने की शक्ति आ जायेगी जिससे चीन को बाजार से  बाहर करने में काफी ज्यादा आसानी भी होने वाली है. अब कही न कही ये चीज सही भी मानी जा सकती है.

मगर जिस तरह से भारत लगातार चीन को अपने बाजार से बाहर करने के लिए कदम पर कदम उठाये जा रहा है उसके बाद में इतना तो साफ़ है कि चीन में कुछ न कुछ तो जवाबी कार्यवाही करेगा और ऐसी सूरत में भारत को पूरी तरह से तैयार रहने की अच्छे से जरूरत है.