आखिरकार सचिन पायलट को मिली हाईकोर्ट से राहत, कांग्रेस बैकफुट पर

1415

जो भी बीते दिनों में हुआ है उसके बाद में कही न कही इतना तो साफ़ माना ही जा रहा है कि चीजे उतनी ज्यादा सामान्य नही रह गयी है राजस्थान कांग्रेस में जितनी कि कभी हुआ करती थी. हाल बड़े ही बुरे हुए है और इसका नजारा इन दिनों राजस्थान हाई कोर्ट में नजर आ रहा है. आपको मालूम तो होगा ही कि सचिन पायलट के खिलाफ विधान सभा स्पीकर सीपी जोशी ने कार्यवाही कर दी थी क्योंकि वो अपनी पार्टी से न सिर्फ बगावत कर रहे थे बल्कि व्हिप जारी होने पर भी नही गये थे और कई बाते रही.

हाई कोर्ट ने अगली सुनवाई तक सचिन खेमे के खिलाफ कोई भी कार्यवाही करने से रोका
विधानसभा अध्यक्ष कह रहे है कि सचिन खेमे के 18 विधायको को अयोग्य घोषित किया जाये और इसे लेकर के वो आगे बढ़ भी गये थे लेकिन फिर सचिन कोर्ट चले गये जहाँ पर पायलट की तरफ से वकील साल्वे ने अपनी दलीले रखी और कहा कि अपनी पार्टी में चल रही गडबडी को बताना या फिर आवाज उठाना कोई बगावत या ऐसा कुछ भी नही है. वही प्रतीक कासलीवाल ने सीपी जोशी का पक्ष रखा.

कोर्ट ने अभी के लिए जितना मामला सुना है उसमे सचिन पायलट का पलड़ा काफी भारी नजर आया है और अब के लिए जब तक अगली सुनवाई नही होती है तब तक के लिए राजस्थान हाई कोर्ट ने सचिन पायलट के खेमे के खिलाफ किसी भी कार्यवाही को करने से विधानसभा को रोक दिया है. अगली सुनवाई मंगलवार को शाम साढ़े 5 बजे की जायेगी और तब आगे की दलीले सुनी जायेगी. हाँ मगर अभी जो सचिन पायलट को जो राहत मिली है उसके बाद में कांग्रेस  पार्टी जरुर बेक फुट पर चली गयी है.

अब सवाल ये उठता है कि अयोग्य साबित करने के लिए क्या क्या आधार है जो विधान सभा स्पीकर देंगे क्योंकि लगातार सचिन पायलट की दलीले काफी मजबूती से ऊपर उठते हुए नजर आ रही है और उनका पलड़ा अभी के लिए भारी दिखाई पड़ता है.