सचिन पायलट के खिलाफ कांग्रेस पार्टी ने की बड़ी कार्यवाही

508

बीते वक्त में लगातार कांग्रेस पार्टी में घमासान चला है जिसके कारण कांग्रेस के लोगो को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा. हाई कमान को अपने आदमी जयपुर भेजने पड़े, गहलोत को बहुमत साबित करना पड़ा और तमाम सारी चीजे हुई. इन सबके बीच में सचिन पायलट बस चुप बैठे रहे और कुछ भी कहने से उन्होंने बिलकुल मानो मौन ही ठान लिया हो. मगर इन सबके बीच में एक बड़ी कार्यवाही पार्टी की तरफ से हो गयी है जिसने सब लोगो को हिलाकर के रख दिया क्योंकि ऐसी उम्मीद तो किसी को न थी.

सचिन पायलट को उपमुख्यमंत्री पद से हटाया गया, प्रदेश अध्यक्ष पद भी छिना
कांग्रेस पार्टी ने सचिन पायलट के बगावती रूख पर सख्त फैसला लेते हुए उनको डिप्टी सीएम के पद से तो हटाया ही हटाया है, उनसे राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष का पद छीनकर के भी गोविन्द सिंह डोटासरा को दे दिया गया है. इसके अलावा उनके करीबी विश्वेन्द्र सिंह और रमेश मीणा को भी पद से हटा दिया गया है जो अपने आप में काफी बड़ी कार्यवाही मानी जा रही है.

रिपोर्ट्स की माने तो 100 से भी अधिक विधायको को फेयरमोंट नाम के रिजोर्ट में ठहराया गया है जहाँ पर उन्होंने अशोक गहलोत के प्रति समर्थन जाहिर किया है. पायलट के पास भी दहाई की संख्या में विधायक है लेकिन वो सरकार को गिरा देने में नाकाफी साबित हो रहे है और ऐसे वक्त में वो कुछ कर भी नही पा रहे है तो हो भी क्या सकता है? हालांकि अब ये सचिन पायलट के लिए एक चक्रव्यूह सामान समय हो गया है जहाँ पर वो अपनी ही पार्टी के पास में लौटकर के नही जा सकते है.

अब अशोक गहलोत की खिलाफत करने वाला पूरी की पूरे प्रदेश स्तर की पार्टी में कोई भी नजर नही आता है और जिस तरह से गहलोत ने पायलट का पत्ता साफ़ करवा दिया उसके बाद में ऐसा लगता भी नही है कि कोई उनके खिलाफ फिर दुबारा जाने का प्रयास भी करेगा.