केजरीवाल ने लिखा पीएम मोदी को पत्र, बोले इसे रोक लो सरकार

202

फ़िलहाल के दिनों में देश की स्थिति सामान्य नही है या फिर आप ये भी कह सकते है कि बड़ी ही बुरी हालत है. करोना के केसेज काफी ज्यादा तेजी के साथ में बढ़े है और ये चिंता भी पैदा करते है क्योंकि लोगो की जान जाती है और ऐसे में देश भर में कई चीजे आज भी बंद है, मगर हाल ही में यूजीसी के एक आर्डर ने स्टेट की सरकारों की मुश्किलें बढ़ा दी है क्योंकि नए आदेश के मुताबिक़ उनको विश्वविद्यालयों की फाइनल इयर या फाइनल सेमेस्टर दोनों की ही परीक्षा ऑनलाइन या फिर ऑफलाइन करवानी होगी.

केंद्र सरकार और यूजीसी से अनुरोध, रद्द कर दे परीक्षा
सीएम केजरीवाल ने पत्र लिखकर के पीएम मोदी से मांग की है कि वो अपने प्रभाव के जरिये जो फाइनल इयर की परीक्षा करवाने का आर्डर आया है उसे बदलवा दे. पत्र में लिखा गया है ‘केंद्र सरकार और यूजीसी छात्रो के हित में अपनी गाइडलाइन्स में बदलाव करे और अंतिम सेमेस्टर की परीक्षा को रद्द कर दे. हमारे युवाओं के लिए मैं प्रधानमंत्री से मैं निजी तौर पर हस्तक्षेप करने और परीक्षाओं को रद्द करवाने के लिए आग्रह करता हूँ.’

अरविन्द केजरीवाल ने साथ ही साथ में ये भी कहा है कि अगर बड़ी बड़ी यूनिवर्सिटी इस समय आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर ऐसा कर सकती है तो फिर हम भी कर सकते है. उन्होंने बच्चो के सुरक्षित भविष्य का हवाला दिया है. कुल मिलाकर के उनका बस यही कहना है कि अभी दिल्ली इस तरह की परीक्षाये करवाने के लिए स्थिति में नही है और इनको रद्द करवा दिया जाए चाहे वो फाइनल इयर की क्यों न हो?

अरविन्द केजरीवाल से पहले महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने भी प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखा और कहा कि वो भी परीक्षाये करवा पाने में रिस्क देख रहे है जो महाराष्ट्र में सेंटर के कारन से होनी है. अब जब इतनी स्टेट की सरकारे कह रही है तो संभव है मोदी सरकार इस पर कुछ विचार करे.