राजस्थान में कांग्रेस सरकार के लिये संकट खड़ा करने वाले सचिन पायलट के लिए बुरी खबर

1297

बीते दिनों में काफी सारे राजनीतिक डेवलपमेंट देखने को मिले है और ये अपने आप में एक ऐसा वक्त है जो राजस्थान की राजनीति को हिला रहा है. ऐसा दरअसल इसलिए हुआ क्योंकि अशोक गहलोत ने सचिन पायलट को दरकिनार करते हुए पूरा राज्य का कण्ट्रोल अपने हाथ में रखा हुआ था और यही चीज उनको पसंद नही आ रही थी जिसके चलते हुए सचिन पायलट ने नाराजगी जताते हुए अपने विधायक अलग करते हुए वो दिल्ली चले गये और खबरे आयी कि अब गहलोत सरकार अल्पमत में चली गयी है. मगर एक बार फिर से पाला पलटते हुए नजर आ रहा है.

अशोक गहलोत ने किया मीडिया के सामने शक्ति प्रदर्शन, 100 से ज्यादा विधायक मौजूद
अब जब अशोक गहलोत पर सवाल उठने लगे कि वो अल्पमत में सरकार चला रहे है तो हाईकमान एक्टिव हो गया और कांग्रेस से उनको मदद मिली जिसके बाद में उन्होंने व्हिप जारी किया. इसमें उन्होंने सभी विधायको को बुलाया और अभी आज जो अशोक गहलोत ने बैठक की उसमे 100 से भी ज्यादा विधायक मौजूद थे और वो लगभग बहुमत के आंकड़े के पास वाले नम्बर पर विधायको को लेकर के खड़े नजर आये.

अशोक गहलोत का कहना है कि हमारे पास ये सारे विधायक है, मीडिया वाले देख ले और जो दो चार विधायक हमारे साथ है वो रास्ते में है वो बस आ ही रहे है. अब बात करे अगर सचिन पायलट की तो वो बिलकुल गायब हो रखे है. उनके पास में लगभग दो से ढाई दर्जन विधायक होने का दावा किया जा रहा है जो सरकार गिराने के लिए पर्याप्त संख्या नही मानी जा रही है और ऐसे में ये उनके लिए एक बुरी खबर साबित हो सकती है.

हालांकि ऐसा नही है कि खेल अभी खत्म हो गया है. संभव है कि बाद में कुछ विधायक गहलोत का पाला छोड़कर के पायलट के खेमे में चले जाए तो शायद खेल में कुछ नया हो पर अभी के लिए सचिन पायलट के लिए ये वक्त काफी भारी नजर आ रहा है.