मोदी की सख्ती के आगे झुक गया पूरा चीन, लिया ये फैसला

379

भारत और चीन के बीच में लम्बे समय से काफी अधिक तनाव चल रहा था और ये कही न कही चिंता पैदा करने वाली बात थी क्योंकि दो जब इतनी बड़ी शक्तियां आपस में भिड़ती है तो फिर ये चिंता की बात तो रहती ही है. ऐसे वक्त में अब बॉर्डर पर दोनों देशो की सेनाये इतने समय से आमने सामने थी. यही नही भारत ने आर्थिक मोर्चे पर भी चीन को धकेलना शुरू कर दिया था जिसके बाद में चीन ने अब थोड़ी सी नरमी दिखानी शुरू कर दी है.

चीन ने दिखाई बॉर्डर पर नरमी, बॉर्डर से डेढ़ किलोमीटर पीछे हटेगी सेना
दोनों देशो के बीच में लगातार कूटनीतिक स्तर पर बातचीत चली है जिसके बाद में अब जाकर के चीन ने फैसला लिया है कि उनकी सेना अब बॉर्डर पर जहाँ पर मौजूद है वहां से डेढ़ किलोमीटर पीछे हटेगी. जब चीन की सेना पीछे हटेगी तो भारत भी अपनी सेना को थोडा सा पीछे करेगा ताकि बॉर्डर पर थोड़ी नरमी रहे. इस मामले में चीन के विदेश मंत्री से अजीत डोभाल ने बातचीत की है.

यही नही दोनों ही पक्षों ने साथ ही साथ में ये भी तय किया है कि दोनों ही देश अब आपस में शान्ति बनाये रखने के लिए प्रतिबद्धता रखेंगे और आपस में दोनों तरफ से बातचीत करते रहेंगे ताकि इस तरह के हालात फिर से पैदा न हो. अब चीन पीछे जा रहा है तो इसके पीछे कही न कही मोदी की कूटनीतिक जीत मानी जा रही है क्योंकि ऐसा कोई भी बॉर्डर इलाका बमुश्किल है जहाँ से चीन पीछे हटता है. इसके पीछे का एक कारन चीनी सामानों को सरकार के द्वारा दोयम दर्जे में डालने जैसा व्यवहार करना भी माना जा रहा है.

अब ऐसी परिस्थिति में कही न कही एक बात तो साफ है कि पहले की तुलना में अब गलवान हो या फिर चीन से सटा कोई भी इलाका हो वहाँ पर थोड़ी नरमी दिखाई जायेगी और ये भारत की एक कूटनीतिक जीत के तौर पर देखा जा रहा है.