एक लम्बे वक्त बाद राम मंदिर निर्माण से जुडी बड़ी खबर आयी है

144

अपने आराध्य प्रभु श्री राम का अयोध्या में मंदिर बनवाने के लिए हिन्दू धर्म से जुड़े लोगो ने कई दशको से केस लडा और काफी अच्छे तरीके से उसे जीत भी लिया जो कि हमने देखा ही है. अब कोर्ट ने अपना काम कर दिया और सरकार ने भी न्यास आदि बनाकर के अपनी तरफ से काम कर दिया है. अब आगे काम आता है निर्माण का जिससे जुडी हुई एक अच्छी और सकारात्मक खबर आ गयी है और ये राम लला के भव्य मंदिर निर्माण की तरफ इशारा कर रही है.

18 जुलाई को राम मंदिर न्यास के सदस्यों की महाबैठक, भूमिपूजन हेतु मोदी को बुलावा
राम मंदिर को लेकर के काफी चीजे हो रही है जैसे जमीन आदि समतल हो रही है लेकिन अभी मुख्य कार्य प्रारम्भ होने बाकी है और इस बारे में प्रवक्ता की तरफ से जानकारी दी गयी है कि 18 जुलाई को मंदिर निर्माण से जुडी हुई एक बहुत ही बड़ी बैठक आयोजित होगी जिसमे आगे के निर्माण की रूपरखा आदि तय की जायेगी. इसके अलावा अब भूमिपूजन का कार्य भी करवाया जाना है और इसे लेकर के सब पीएम मोदी की तरफ देख रहे है.

राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक् नित्य गोपाल दास कहते है कि भूमिपूजन करने के लिए हमने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी को पत्र लिखकर के आमंत्रित किया है. वो आये और ये कार्य करे. आजकल सारे काम विडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये हो रहे है लेकिन यहाँ पर कोई नही चाहता है कि भूमिपूजन का कार्य वर्चुअल तरीके से हो. हम चाहते है पीएम मोदी हामी भरे और आकर के भूमिपुजन का कार्य करे ताकि हम आगे बढ़ सके.

अब अगर प्रधानमंत्री मोदी जाकर के ये कर देते है तो विपक्ष को तो बैठे बिठाए बोलने को मिल जायेगा कि पीएम् इसके जरिये हिन्दुओ को खुश करने का प्रयास कर रहे है वगेरह वगेरह और तमाम बाते भी होगी. कही न कही ये कोई सही संकेत नही है और इस बात को हमें अच्छे तरीके से समझना होगा. अगर विपक्ष हर बात में यूँ करता रहा तो काम हो ही नही सकेगा.