टिक टॉक के बाद इस बड़ी चीनी कम्पनी पर गिर सकती है गाज, एक्शन में मोदी सरकार

278

भारत इन दिनों में एक तरह से लगातार अपनी चीन पर अपनी आर्थिक निर्भरता को कम कर रहा है और कही न कही ये चीज जरूरी भी है क्योंकि हालात ही ऐसे बन रहे है जिनमे कोई भी इस बात को समझ नही पा रहा है कि करे तो करे क्या? आपको मालूम तो होगा ही कि हाल ही में भारत ने टिक टॉक समेत कई एप्प को बैन कर दिया है. अब अगर आपको ऐसा लगता है कि ये चीज यही पर रूक जायेगी तो आप गलत समझ रहे है क्योंकि एक कम्पनी अभी भी ऐसे ही डाटा चोरी के आरोपो में फंसी हुई है.

हुवावे पर गिर सकती है गाज, चल रही है दुनिया भर में चर्चा
चीन की आज की डेट में सबसे बड़ी मोबाइल से जुडी हुई कम्पनी है हुवावे जो 4जी और 5जी उपकरणों का निर्माण भी करती है. इस कम्पनी को अमेरिका ने अपने यहाँ पर बैन कर दिया है और आरोप लगे है इस पर डाटा चोरी करने के. भारत के भी कई बड़े बड़े एक्सपर्ट ये चेता चुके है कि हुवावे संभवतः कही यही सब भारत में भी तो नही कर रही है?

जिस तरह से टिक टॉक आदि की समीक्षा की गयी और फिर इनको बंद किया गया वैसे ही अब संभव है कि हुवावे की भी समीक्षा की जाये क्योंकि इसके उपकरण बड़े ही सेंसेटिव टेलिकॉम क्षेत्र में लगते है जहाँ पर देश भर का डाटा होता है और अगर वो चीन जैसे देश के हाथ में जाता है तो ये कोई अच्छे संकेत तो बिलकुल भी नही है. ऐसे में इस कम्पनी के खिलाफ कब एक्शन हो जाये कोई भी नही जानता है.

हालांकि चीन भारत सरकार के इन एक्शन से बड़ा ही परेशान हो रखा है क्योंकि जिस तरह से भारत ने अब स्वदेशी पर काम करना शुरू किया है उससे चीन को कई बिलियन डॉलर का नुकसान हो सकता है और उसकी भरपाई वो कर नही पायेगा.