चीन के खिलाफ पहली बार सेना उतारेगा अमेरिका, अब तक का सबसे बड़ा ऐलान

322

भारत और चीन के बीच में एक लम्बे वक्त से तनाव हो रहा है जो हम लोग एलएसी पर काफी वक्त से देख ही रहे है और चीन का सिर्फ भारत से ही नही बल्कि वियतनाम, ताइवान, जापान और फिलिपिन्स जैसे कई देशो के साथ में सीमा विवाद  चल रहा है और इसके कारण सारी दुनिया में न सिर्फ सत्ता का इमबेलेंस बन रहा है बल्कि साथ ही साथ में दुनिया भर में इसी कारण से अमेरिका जैसे देशो के लिए खतरा बन रहा है क्योंकि पीएलए की कोई भी विश्वसनीयता नही है.

अमेरिका एशिया में भेजेगा अपने 9500 सैनिक, चीन को कण्ट्रोल करने का है लक्ष्य

अमेरिका ने अभी हाल ही में माना है की चीन भारत, जापान और ताईवान जैसे देशो के लिए खतरा बन रहा है जिसे ठीक करना जरूरी है. इसी मकसद के साथ में में अमेरिका ने निर्णय किया है की वो यूरोप में मौजूद अपनी फोर्सेज को कम करके उनको अब एशिया में भेजेगा. अभी जर्मनी में भारी संख्या में अमेरिकन फोर्सेज है जिनमे से 9500 सैनिक एशिया में बजे जायेंगे. ये अपने आप में काफी बड़ी संख्या है और इससे चीन पर काफी भारी दबाव बनेगा.

हालांकि अभी ये साफ नही है कि अमेरिका इनकी तैनाती किस जगह पर करेगा क्योंकि अमेरिका के पास में काफी सारे बेस एशिया में मौजूद है. लेकिन अमेरिका चाह रहा है की ताइवान उसे अपने यहाँ पर फोर्सेज उतारने की मंजूरी दे दे. ताइवान न सिर्फ चीन के काफी ज्यादा नजदीक पड़ता है बल्कि साथ ही साथ में स्ट्रेटजी के हिसाब से भी वो चीन पर हावी होना चाह रहा है.

अब चीन के लिए ये बड़ा ही मुश्किल है कि वो किसी भी कीमत पर अमेरिका के साथ में खड़ा हो सके क्योंकि अमेरिकी फोर्सेज के जवान न सिर्फ दुनिया में सबसे बेहतरीन है बल्कि साथ ही साथ में उनके पास में चीन से ज्यादा बेहतर संसाधन भी मौजूद है। ये भारत के लिये स्ट्रेटजी के हिसाब से देखे तो काफी ज्यादा बेहतर साबित हो सकता है।