प्रधानमंत्री मोदी से की उद्धव ठाकरे ने ये रिक्वेस्ट, खुद लैटर में लिखकर के भेजा

431

महाराष्ट्र आज की तारीख में संक्रमण के मामले में देश का सबसे टॉप का राज्य बन गया है जहाँ पर केसेज लाखो में जा चुके है और ये अपने आप में चिंता का विषय भी माना जा रहा है. अब ऐसे वक्त में उन लोगो के लिए भी परेशानी का सबब बन गया है जो भी लोग सरकार में है. इसी के चलते आज महाराष्ट्र में सब कुछ बंद हो रखा है. आज अगर मुंबई जैसे शहरो में छूट मिल रही है तो वो भी नाप तौलकर. यहाँ तक की शिक्षा व्यवस्था भी रोक दी गयी है.

ठाकरे ने लिखा मोदी को पत्र, छात्रो की परीक्षा रद्द करने का किया अनुरोध
अब हाल ही में 25 जून को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने पीएम मोदी को एक पत्र लिखा है जिसमे वो कहते है कि महाराष्ट्र की सरकार ने अपने अंतर्गत होने वाली जो भी सेमेस्टर या अंतिम वर्ष की भी परीक्षाये है उन्हें रद्द कर दिया है और छात्रो को मूल्यांकन के आधार पर पास करने का फैसला किया है, बाद में अगर कोई छात्र परिक्षा देना चाहे तो उनके लिए ऑप्शन रखा जाएगा.

अब जो भी संस्थान या कॉलेज आदि केंद्र सरकार के अंतर्गत आते है उनकी भी परीक्षाये चाहे वो फाइनल इयर या सेमेस्टर की हो प्रोफेशनल कोर्स की हो उनको भी रद्द कर दिया जाए. उद्धव ठाकरे ने यहाँ पर भी मूल्यांकन वाले रास्ते का सुझाव दिया है. उद्धव ठाकरे ने केन्द्रीय संस्थानों में पीएम मोदी से ऐसा करने का निर्णय लेने के लिए रिक्वेस्ट इसलिए की है क्योंकि एग्जाम में एक साथ सैकड़ो बच्चे एक जगह इकट्ठे हो जाते है और ऐसे में महाराष्ट्र में संक्रमण का रिस्क काफी ज्यादा बढ़ गया है.

अब एक सवाल ये भी है कि अगर ऐसा वक्त हो चला है तो फिर उद्धव ठाकरे सरकार क्या वाकई में पूरे राज्य को आने वाले वक्त तक हेंडल कर पाएगी? अगर नही तो फिर अर्थव्यवस्था के तो हाल ही खस्ता हो जाने वाले है.