जिस चीन से दोस्ती कर रहा था नेपाल, उसी ने उसे धोखा दे दिया

727

भारत और नेपाल के बीच में काफी सदियों के सम्बन्ध रहे है और ये वाकई में बड़े ही मजबूत है इस बात में किसी को भी कोई संशय नही है ये बात हर कोई मानता है. मगर पिछले कुछ वक्त से नेपाल ने भारत से दूरी बनानी शुरू कर दी और विवाद भी खड़े कर दिए. अब ऐसे वक्त में एक बात तो पूरी तरह से साफ़ है कि इसके पीछे कोई न कोई और कुछ लोगो का कहना है कि ये चीन करवा रहा है. नेपाल चीन से दोस्ती करने की कोशिश कर रहा था लेकिन उसके साथ कुछ और ही हो रहा है.

चीन ने नेपाल के कुछ इलाको पर कब्जा किया, गाँव के गाँव ले लिए
अब हाल ही में ये खुलासा किया गया है कि एक विशेष स्ट्रेटजी के साथ में चीन ने धीरे धीरे आगे बढकर के नेपाल के काफी बड़े भूभाग पर कब्जा कर लिया है और इसमें गाँव के गाँव शामिल है. यानी चीन ने जमीन ही नही बल्कि नेपाल के लोग भी अपने अंडर में ले लिए और केपी ओली सरकार जो भारत के सामने इतना कुछ बोलती रहती है उसके सामने कुछ भी बोलने की हिम्मत नही पड़ रही है.

अब इस बात को लेकर के नेपाल के ही कई एक्सपर्ट्स अपना प्रतिरोध जता रहे है कि जो भारत दोस्ती रखता है उसके साथ ऐसा व्यवहार और जमीन हड़पने वाले चीन से यारी ये कैसी नीति है ओली महोदय आपकी? अगर योगी आदित्यनाथ के बयान की माने तो चीन तिब्बत की तरह नेपाल को भी अपने कब्जे ले लेना चाहता है और फिर उसके रिसोर्सेज और जमीन का उपयोग करना चाहता है.

हालांकि ओली सरकार इस पर पूरी तरह से चुप है और कुछ भी बोलने से पूरी तरह बचने की कोशिश कर रही है. अब ऐसा क्यों है ये तो वो खुद ही जानते है. मगर एक बात साफ़ है कि वो अपने क्षेत्रो की रक्षा करने में पूरी तरह से फेल होते हुए नजर आये है.