एक हफ्ते बाद आखिरकार चीन ने गलवान घाटी की ये बात स्वीकार कर ली

713

भारत और चीन के बीच में गलवान घाटी में क्या कुछ हुआ था ये बात कोई भी नही जानता है लेकिन जानना तो लोग चाहते है कि आखिर हुआ क्या था वहाँ पर? ऐसा इसलिए है क्योंकि भारत तो पारदर्शिता के नियम को मानता है और जो हुआ अपनी तरफ से बता दिया कि हाँ हमारे 20 जवान है जो वीरगति को प्राप्त हुए है. इसके बाद में चीन से जानने की कोशिशे हुई कि वो इस पर बताये कुछ तो बताये कि आखिर उनकी तरफ कितना नुकसान हुआ है? काफी वक्त तक तो उन्होंने छुपाने की कोशिश की लेकिन आखिरकार धीरे धीरे सच बाहर आ रहा है.

चीन ने अपने कमांडिंग अफसर के ऊपर जाने की बात स्वीकारी, वार्ता में सामने आया सच
भारत और चीन के बड़े सैन्य अधिकारियों के बीच में बैठको का दौर चला है और सूत्रों के अनुसार इसी बैठक में चीन की तरफ से इस बात को स्वीकार किया गया है कि जब गलवान वैली में ये सब इतना कुछ हुआ तब उस वक्त वहाँ पर उनका एक कमांडिंग ऑफिसर भी था जो अब नही रहा. ये तो एक कमांडिंग अफसर था इसलिए चीन ने बात को मान लिया, अभी छोटे मोटे सैनिको के जाने की बात तो वो शायद ही स्वीकारे क्योंकि जब कमांडिंग अफसर के बारे में ही हफ्ते भर बाद स्वीकार कर रहा है.

हालांकि अमेरिकी इंटेलिजेंस की रिपोर्ट में दावा है कि लगभग 43 के आस पास चीन की तरफ के लोग है जो ढेर हो गये थे और अस्पताल में तो न जाने कितने ही होंगे. जिस तरह से चीन ने अपनी बाते सब लोगो के सामने धीमें धीमे रखी है वैसे ही बाकी सारा सच भी सामने आ ही जायेगा.

वीके सिंह तो ये दावा तक कर चुके है कि हमने उनके कुछ लोगो को पकड लिया था जिन्हें बाद में नियमो के चलते छोड़ दिया गया. अब चीन लगातार जूझ रहा है पर वो बार बार मुंह के बल गिर रहा है जो नजर भी आ रहा है.