चीन के खिलाफ भारत के सपोर्ट में खुलकर उतरा अमेरिका, दिया ये बड़ा बयान

629

लद्दाख क्षेत्र पर बने बॉर्डर और गलवान घाटी में जो कुछ भी हुआ है वो भारत या फिर पूरे विश्व से छुपा हुआ नही है. हर कोई इस बात को मानता है और जिस तरह से चीन ने गन्दी हरकते की है वो परेशान करने वाला है. ऐसे में अमेरिका जैसे देशो का व्यू पॉइंट क्या है ये चीज भी काफी ज्यादा मैटर करती है. पहले तो अमेरिका की तरफ से कहा गया था कि शान्ति से समाधान किया जाना चाहिए. मगर अभी हाल ही में उन्होंने जो कहा है वो और भी ज्यादा ख़ास है.

भारत के शहीद जवानो के परिवारो के साथ संवेदना, चीन ने जानबूझकर किया ये सब
डोनाल्ड ट्रम्प ने पीएम मोदी से इस मामले में बात पहले भी की थी. अब अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो का बयान आया है जो डोनाल्ड ट्रम्प के ख़ास है. उन्होंने कहा चीन के साथ इस झड़प में जो जवान भारत के शहीद हुए है उनके प्रति उनके परिवारों के प्रति हम संवेदना प्रकट करते है. इस दुःख की घडी में हम, जवानो के परिवारों के और भारत के लोगो के साथ में है. माइक पोम्पियो का ये ट्वीट काफी कुछ कह देता है.

ये बात यही पर ही नही रूकती है. अमेरिकी सीनेटर मिच मैकोनेल ने भी इस मामले पर अपनी तरफ से बयान जारी करते हुए कहा है कि चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी ने जानबूझकर के भारत और चीन के बीच में तनाव बढ़ाया है ताकि वो भारत के क्षेत्र पर कब्जा कर सके. सीनेटर ने साफ़ साफ शब्दों में ये जो कुछ भी हुआ है उसके लिए चीन की पार्टी और उनकी सेना को दोष दिया है और भारत को लेकर के उनका एकदम सॉफ्ट कार्नर नजर आता है.

अब ये एक अच्छा संकेत है कि रूस और अमेरिका जैसे देश गलवान मामले में भारत की तरफ इतना सॉफ्ट कार्नर दर्शा रहे है और ऐसे में चीन का असहज होना तो बड़ी ही लाजमी सी बात है क्योंकि उसने सोचा नही था कि भारत की विदेश नीति इस हद तक मजबूत हो चुकी है.