वरिष्ठ कांग्रेस नेता संजय झा ने उठाये थे अपनी ही पार्टी पर सवाल, सोनिया गांधी ने दी ऐसी सजा

645

संजय झा को तो आप जानते ही होंगे. कांग्रेस के जाने माने और वरिष्ठ नेता रहे है जिन्होंने एक लम्बे अरसे से पार्टी की सेवा की है और अब उनकी जिम्मेदारी सबसे अधिक जिम्मेदार पद की थी यानी मीडिया को हेंडल करने की. मगर पिछले कुछ वक्त से संजय झा पार्टी की कुछ चीजो से असंतुष्ट नजर आये थे और तो और उन्होंने पार्टी के अन्दर के आंतरिक लोकतंत्र पर भी सवाल किए जो जाहिर तौर पर गांधी परिवार को रास नही आना था और नही आया भी. अभी का हाल देख लिजिए जो संजय झा के साथ में हुआ है.

संजय झा कांग्रेस प्रवक्ता पद से हटाये गये, नही रख सकेंगे पार्टी की तरफ से आधिकारिक बाते
कांग्रेस कमिटी ने हाल ही में फैसला लिया है कि संजय झा को पार्टी प्रवक्ता के पद से हटा लिया जाये. इसके बाद में न सिर्फ उनकी इज्जत कम हो गयी है बल्कि साथ ही साथ अब उनकी पहुँच भी कम कर दी गयी है. संजय झा की जगह पर अब अभिषेक दत्त और साधना भारती को ये जगह दी गयी है जो कि कांग्रेस पार्टी की तरफ से जो भी बात है वो रखेंगे और ये दोनों ही गांधी परिवार की हिमायत करने वाले माने जाते है.

संजय झा का कहना है कि अब हम नेहरू के जो लोकतान्त्रिक मूल्य है उससे दूर चले गये है. अब उनकी बात सच हो या झूठ लेकिन जो बात गांधी परिवार पर आंच आने वाली हो उस पर एक्शन तो होना ही है. जैसे ही कांग्रेस कमिटी ने उनको हटाने का प्रस्ताव पेश किया तो अध्यक्षा सोनिया गांधी ने भी इस पर काफी आसानी के साथ में साइन करके इसे पास कर दिया.

इससे पहले भी कांग्रेस पार्टी में ऐसा होता आया है. जो भी व्यक्ति पार्टी में परिवारवाद या फिर अलोकतांत्रिक व्यवस्था के खिलाफ आवाज उठाता है से न चाहते हुए भी धीरे धीरे साइड लाइन होना ही पड़ता है चाहे उसने कितने ही लम्बे वक्त तक पार्टी की सेवा की हो.