केजरीवाल को सुप्रीम कोर्ट से पड़ी जोर की फटकार

260

अब इन दिनों में देश की राजधानी नई दिल्ली की हालत बिलकुल भी ठीक नही है और ये हालात इस कदर बिगड़ क्यों रहे है ये बात भी किसी से छुपी हुई नही है और फिर यही चीज चिंता भी पैदा करती है. आपने देखा ही होगा कि किस तरह से देश की राजधानी यानी नयी दिल्ली में इन दिनों में करोना महामारी तेजी से विस्तारित हुई है और केजरीवाल सरकार उसे रोक पाने में विफल नजर आ रही है. ऐसे में जो सच आ रहा है उसे सुलझाने की बजाय उसे दबाने की कोशिश हो रही है जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने स्वतः संज्ञान लिया है.

सुप्रीम कोर्ट ने लगाई फटकार, डॉक्टर नर्सो की सुरक्षा करे
सुप्रीम कोर्ट ने स्वतः संज्ञान के बाद में सुनवाई के दौरान दिल्ली सरकार को बड़ी गजब तरीके से डांट लगाई है और कहा है कि आप दिल्ली में करोना के मरीजो के समुचित इलाज की और जिनका निधन हो गया है उनके शव को सरकारी अस्पतालों से गरिमापूर्ण ढंग से निपटान की व्यवस्था करे. आप ये सब करने की बजाय जो गलत हो रहा है उसे बाहर आने से रोक रहे है.

सुप्रीम कोर्ट पूछा आखिर दिल्ली ने किया क्या क्या है? आप डॉक्टर्स और नर्सो की सुरक्षा करे वो लोग वारियर्स है. दिल्ली सरकार नही चाहती है कि जो सच है वो बाहर आये सामने आये लेकिन विडियो सामने आ रहे है. आप डॉक्टर और नर्सो को डराकर के न रखे बल्कि उन्हें समर्थन दे. आपने एक डॉक्टर को निलंबित क्यों कर दिया जिसने आपके अस्पताल की दयनीय हालत का विडियो बनाकर के सच बाहर लाया था? सुप्रीम कोर्ट ने केजरीवाल सरकार पर सवालों की बौछार करते हुए उन्हें इस पूरे मामले में हलफनामा दायर करने के लिए कहा है.

ये कोई पहली बार नहीं है. इससे पहले भी केजरीवाल सरकार पर इसी तरह से हाई कोर्ट ने नाराजगी जताते हुए अपनी तरफ से तल्ख़ टिप्पणी की थी और दिल्ली में कम टेस्टिंग होने का मूद्दा तो पहले ही उठ चुका है जिसके बाद में अमित शाह को खुद इस मामले में हस्तक्षेप करना पडा था.