चीन ने लद्दाख में जो किया उसके बाद प्रधानमंत्री मोदी का पहला बयान आया, सीधे दी ये चेतावनी

909

भारत और चीन के बीच में एलएसी पर बीते दिनों में क्या कुछ हुआ है ये किसी को भी बताने की जरूरत नही है. जिस तरह से चीन ने भारत की सीमा में घुसकर के नुकसान पहुँचाने की कोशिश की और नियमो को तोडा है वो सबको ही नजर आ रहा है और ऐसे वक्त में अब जब देश ने अपने 20 जवान खोये है तो हर किसी को ऊम्मीद तो होती ही है कि देश के सबसे बड़े लीडर यानी प्रधानमंत्री मोदी इस पर कुछ कहेंगे और वो इस पर बोले भी है.

मोदी ने चीन को चेताया, भारत को न उकसाये
अभी हाल के हालातो पर प्रधानमंत्री ने सारी रिपोर्ट ली है और बाकायदा दो मिनट का मौन भी रखा गया था जिसके बाद में उन्होंने एक विडियो सन्देश में नाम लिए बिना चीन को बड़े ही सकत लहजे में चेतावनी दे दी है. पीएम मोदी ने कहा ‘इस देश के जवानो ने जो सहादत दी है उस पर हम सबको गर्व है. इन्होने जो बलिदान दिया है वो बिलकुल भी व्यर्थ नही जाएगा. भारत शान्ति चाहता है लेकिन अगर उकसाने की कोशिश हुई तो सही तरीके से जवाब देना भी अच्छे से जानता है.’

साथ ही साथ में प्रधानमंत्री मोदी ने ये भी कहा है कि भारत कभी भी अपनी अखंडता और एकता से समझौता नही करेगा. जब भी जरूरत पड़ी है हमने शक्ति का प्रदर्शन भी काफी अच्छे से किया है. पीएम मोदी के इस सख्त लहजे से मालूम चल जाता है कि अगर चीन ज्यादा अकड दिखाएगा तो फिर भारत भी उसको पकडकर धकेल देने में देरी नही करेगा और जाहिर तौर पर सीमा पर ऐसा ही हो भी रहा है.

एक और बात ध्यान देने लायक है कि चीन का किसी से पडोसी से अच्छा सम्बन्ध नही है चाहे वो तिबत हो, ताइवान हो या फिर वियतनाम या जापान हो. हर किसी से उनका कुछ न कुछ झगडा चलता ही रहता है. कई एक्सपर्ट कहते है कि राष्ट्रवाद में अपने लोगो को भिगोये रखने के लिए ऐसे कदम ये लोग लेते है.