गुजरात और मध्यप्रदेश के बाद इस राज्य में कांग्रेस को विधायक टूटने का डर, होटल में बंद किया

1576

राज्यसभा के चुनाव आने वाले है और इन चुनावों को लेकर के लगातार लोग काफी ज्यादा चिंता भी है क्योंकि जिस तरह से राजनीतिक उठापटक शुरू हुई है वो अपने आप में लोगो का दिमाग ही हिला दे रही है और ये बात सही है. अब हाल ही की बात ले लीजिये. कुछ टाइम पहले एक बड़ी संख्या में मध्य प्रदेश में सिंधिया और उनके समर्थको ने कांग्रेस छोड़ी और भाजपा जोड़ी. इसके बाद में गुजरात में भी 6 से ज्यादा विधायक कांग्रेस छोड़ चुके है. अब इसी सब से कांग्रेस परेशान राजस्थान में भी नजर आ रही है.

राजस्थान में सतर्क हुई कांग्रेस, विधायको की बाड़ेबंदी शुरू की गयी अब राजस्थान में भी राज्यसभा के चुनाव होने वाले है जहाँ पर से दो राज्यसभा सांसद चुनकर के जाने वाले है और ये आगे काफी बड़ा रोल प्ले करेंगे. इसी बात को लेकर के खींचतान और बयान बाजी शुरू हो गयी है. बीजेपी पर खरीद फरोख्त के आरोप लगाने के साथ कांग्रेस ने अपने सब विधायको को होटल में शिफ्ट कर दिया है जहाँ पर उनसे लगातार कांटेक्ट रखा जा रहा है.

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने तो ये आरोप तक लगा दिया कि ये चुनाव पहले दो महीने पहले ही हो सकते थे लेकिन हॉर्स ट्रेडिंग का काम न होने के कारण ऐसा नही हो सका. कांग्रेस की तरफ से भाजपा पर 25 करोड़ देकर के विधायक खरीदने जैसे आरोप भी लगे है. इस बात में कितना सच है और कितना झूठ ये तो स्वयं विधायक ही बता सकते है. कई लोगो को सचिन पायलट और गहलोत के बीच में भी फूट पडती नजर आ रही है जैसे कमलनाथ और सिंधिया के बीच में पड़ी थी लेकिन पायलट ने ये सब खारिच करते हुए कहा है कि उनके प्रत्याशी ही जीतेंगे.

मुख्यमंत्री ने तो ये तक कह दिया कि बीजेपी फासिस्ट है. पीएम मोदी और शाह देश से कांग्रेस को मुक्त करवाना चाहते है लेकिन कांग्रेस सबकी रग रग में बसी हुई है. इस पूरे मामले की जांच एसओजी करेगी. बीजेपी भी गहलोत के बयानों पर कडा वार कर रही है और उनकी सरकार को अस्थिर बता रही है.