लॉकडाउन की वजह से नुकसान तो बहुत हुए, लेकिन एक बहुत ही बड़ा फायदा भी हो गया है

1204

देश ने इतिहास में पहली बार लॉकडाउन का मुंह देखा है. भारत ने हमेशा रण में आकर के शत्रुओ से लोहा लिया है लेकिन इस बार थोडा मामला अलग था. एक वायरस को हराने के लिये जिस तरह से एक लम्बे वक्त तक कही न कही लोगो को लॉकडाउन के दौर में जीवन जीना पड़ा है वो हर किसी के लिए बड़ा ही तकलीफदेह है और रहने भी वाला है. मगर हर चीज का एक पोजेटिव पहलू भी होता है जिसको हम कभी भी नजरअंदाज नही कर सकते है.

सिर्फ 2 महीने में बना ली भारतीयो ने 10 हजार करोड़ की इंडस्ट्री, भविष्य की ओर बड़ा कदम
अब जब सारी की सारी इंडस्ट्रीज बंद हो गयी और लोगो की नौकरियां भी गयी जिसके कारन डिप्रेशन काफी भारी क्रिएट हुआ लेकिन इन सबके बीच में एक इंडस्ट्री खड़ी हो गयी है और वो है मास्क और पीपीई किट बनाने की जो कि आज भारत में हर रोज 4 लाख से ज्यादा पीपीई किट्स बनाती है और मास्क का उप्तादन तो जल्द ही 10 लाख को भी क्रॉस करने वाला है जो कि एक बड़ा नम्बर है. ये सामान आज 10 हजार करोड़ की इंडस्ट्री बना चुका है वो भी दो महीने में, ये इतिहास में पहली बार है.

सबसे बड़ी ये बात है कि ये क्वालिटी में तो वर्ल्ड क्लास है ही, साथ ही साथ में प्राइस के मामले में चीन को भी कड़ी टक्कर दे रहे है जो कि किसी भी और देश के बस की बात नही है. ये चीज न सिर्फ एक अच्छा कदम है बल्कि आत्मनिर्भर भारत के लिए एक बुनियाद भी है जिसमे हम मिसाल ले सकते है कि अगर 2 महीने में भारत इतनी बड़ी इंडस्ट्री खड़ा कर सकता है जो आने वाले में कई गुना बढ़ेगी तो भारत किसी को भी पछाड़ सकता है.

हाँ इतना जरुर है कि भारत को अभी और ज्यादा मेहनत करनी पड़ेगी और अगर इतनी बड़ी इकॉनमी से टक्कर लेनी है तो फिर अपने लोगो को मजबूत करना होगा तब ही ये संभव हो सकेगा.